कटनीजबलपुरमध्य प्रदेश

लडक़ी को भगाने के संदेह पर पिता ने की पड़ोसी की हत्या

बहोरीबंद थाना क्षेत्र के ग्राम बचैया में वारदात, पुलिस ने दो आरोपियों को किया गिरफ्तार, एक फरार

कटनी, यशभारत। बहोरीबंद थाना क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम बचैया में विगत दिवस मारपीट में एक व्यक्ति की हत्या के बाद से ही फरार दो आरोपियों को बहोरीबंद पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। इस वारदात के बाद से ही फरार एक अन्य आरोपी की पुलिस द्वारा तलाश की जा रही है। बहोरीबंद थाना प्रभारी सुरेंद्र शर्मा ने बताया कि विगत 24 दिसंबर की रात ग्राम बचैया निवासी श्रीमति कुसम बाई पति गुलाब रजक बहोरीबंद थाने मेंं रिपोर्ट दर्ज कराई कि करीब 1 साल पहले उसके पड़ोसी नारायण पटेल की लडक़ी कामनी पटेल गांव के निखिल भूमिया के साथ भाग गई थी और उसके बाद उसने उससे शादी कर ली थी। नारायण व उसके भाई उसी समय से मेरे गुलाब रजक व लडक़े अनिल रजक पर संदेह करते थे कि इन लोगों ने लडक़ी भगाने में मदद की है। किसी बात पर से नारायण व उसके परिवार वाले बैर रखते थे। बताया जाता है कि 24 दिसंबर की रात करीब साढ़े 8 बजे गुलाब रजक बाजार से आकर अपने घर के सामने की बाड़ी में खड़ा था तो पड़ोस में रहने वाला नारायण पटेल अपने घर के सामने खड़े होकर गाली देने लगा। गुलाब रजक ने गाली देने से मना किया तो नारायण व उसका भाई रमेश, सुनील पटेल गाली देते बाड़ी में आए और मारपीट करने लगे। इसी बीच सुनील ने डंडा से मारा नारायण पटेल ने पैर के घुटना से मेरे गुलाब के पेट व सीना में मारा, जिससे वो जमीन में गिरकर तपडऩे लगा। महिला ने बताया कि तब में गांव के सरपंच को बुलाई फिर 108 गाड़ी से उसको सरकारी अस्पताल बहोरीबंद ले जाया गया, जहां डाक्टर ने गुलाब पिता मिठाई लाल रजक को मृत घोषित कर दिया। महिला की रिपोर्ट पर पुलिस ने धारा 302, 34 का प्रकरण दर्ज कर आरोपियों की तलाश शुरू की। पुलिस अधीक्षक अभिजीत कुमार रंजन के निर्देशन तथा एसडीओपी अखिलेश गौर द्वारा गठित टीम को साथ लेकर बहोरीबंद थाना प्रभारी सुरेन्द्र शर्मा ने त्वरित कार्यवाही कर प्रकरण के आरोपी नारायण पटेल व सुनील पटेल को घटना के 15 घंटे के अंदर पकड़ लिया है। प्रकरण का एक आरोपी रमेश पटेल फरार हो गया है, जिसकी तलाश की जा रही है।
इनकी रही प्रमुख भूमिका
उक्त कार्यवाही में निरीक्षक सुरेन्द्र शर्मा, सहायक उपनिरीक्षक अजय सिहं, प्रधान आरक्षक रमेश सिंह, महिला आरक्षक वंदना उइके, आरक्षक अखिलेश, आरक्षक आशुतोष सिंह, आरक्षक विशाल शिवहरे, आरक्षक दीपक सिहं, आरक्षक अतुल जैन एवं थाना बाकल के प्रधान आरक्षक शिव सिंह की विशेष भूमिका रही।

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!
Rate this post

Related Articles

Back to top button