जबलपुर

उद्यान के मालियों के घर के नहीं जल रहे चूल्हे, मालियों ने दिया निगम को अल्टीमेटम,वहीं उद्यान अधिकारी बोले-बाबा बर्फानी ग्रुप को दिया जा चुका है नोटिस, जल्द होगी कार्रवाई 

जबलपुर यश भारत मालियों के वेतन का भुगतान नहीं होने के कारण कुछ उघानों के रख रखाव का अचानक कार्य बंद कर दिया और नगर निगम के बाहर माली संघ धरने पर बैठने की तैयारी में है. कुछ मालियों का कहना है कि उनके ठेकेदार ने वेतन का अब तक तीन महीने से भुगतान नहीं किया है. जबकि मालियो को हर माह की सात तारीख तक वेतन देने का प्रावधान है. समय पर वेतन नहीं मिलने से मालियों के समक्ष परिवार का खर्च चलाना मुश्किल हो गया है. मालियों का तीन महीने का वेतन बकाया है. ठेकेदार बाबा बर्फानी ग्रुप जिसको लेकर पहले भी शिकायत की जा चुकी है अभी तक वेतन नहीं दे पाई है मालियों का कहना है कि जब तक ठेकेदार वेतन का भुगतान नहीं करेंगे तब तक कोई भी माली कार्य पर नहीं जाएंगे.

सैकड़ा सफाई कर्मियों ने नगर निगम कार्यालय का किया घेराव-प्राइवेट ठेकेदार रितेश टंडन की शिकायत लेकर आज नगर निगम में करीब एक सैकड़ा सफाई कर्मियों ने नगर निगम कार्यालय का घेराव किया। इन सफाई कर्मियों द्वारा बताया गया की बर्फानी सिक्योरिटी सर्विस में नगर निगम उद्यान विभाग में सफाई कर्मचारी है, रितेश टंडन जिसके पास उद्यान विभाग आउटसोर्स सफाई का ठेका है उसके द्वारा उन्हें सफाई कर्मी के रूप में रखा गया था। लेकिन 3 महीने बीत जाने के बाद भी रितेश टंडन द्वारा उन्हें वेतन नहीं दिया जा रहा है। जिसकी शिकायत उन्होंने पिछले महीने भी नगर निगम कमिश्नर और बर्फानी सिक्योरिटी सर्विस के डायरेक्टर से भी की थी परंतु उनके द्वारा लगातार केवल आश्वासन दिया जा रहा है। आज मजबूर होकर उन्होंने नगर निगम कमिश्नर कार्यालय घेरा है जिसमें वे मांग कर रहे हैं कि उनका वेतन भुगतान जल्द किया जाए अन्यथा वे अनिश्चितकालीन हड़ताल पर बैठने के लिए बाध्य होंगे। धरना इस्थल पर कुछ कर्मचारी दबी जबान में रितेश टंडन के आर्थिक संबंध एक वरिष्ठ अधिकारी एवं एक बड़े भाजपा नेता से भी है ऐसे चर्चा करते देखे गए।

मालियों का निगम को अल्टीमेटम- मालियों का कहना है कि वे दिन रात भर निगम के उघानो की सफाई करते हैं. इस कारण ही शहर स्वच्छ रहता है. यदि वेतन नहीं मिला तो शहर के गार्डनस की सफाई व्यवस्था ठप हो जाएगी और ये गार्डन गंदगी से अट जाएंगे. इसके लिए माली जिम्मेदार नहीं होंगे, बल्कि ठेकेदार एवं नगर निगम की जिम्मेदारी होगी. माली राजेश ने बताया कि वेतन के लिए ठेकेदार आज कल देने की बात कह रहे हैं, जबकि वेतन का भुगतान तीन महीने से नहीं कर रहे. मालियों का कहना है कि पता नहीं कब उनके वेतन का भुगतान होगा, लेकिन सफाई कर्मियों का कहना है कि जब उनके वेतन का भुगतान होगा, तभी सही तरीके से काम पर लौटेंगे.

ठेकेदार पर दुव्र्यवहार करने का आरोप लगाया– उनका कहना था कि गार्डन कर्मियों के परिवारों में छोटे-छोटे बच्चे हैं. बिना वेतन के परिवार में बच्चों का भरण पोषण करना मुश्किल हो रहा है. जब ठेकेदार से वेतन की बात करते हैं तो घर जाने की बात कहते हैं, उन्होंने कहा कि वेतन उनकी मेहनत का पैसा है. जो उन्हें समय पर मिलना चाहिए.

कंपनी पर पहले भी लग चुके हैं आरोप- बाबा बर्फानी कंपनी इसके डायरेक्टर रितेश टंडन पर इसके पूर्व भी लोगों के पैसे वक्त पर न देने के आरोप लग चुके हैं। इसके अलावा फ्लाईओवर के बीच कुछ मजदूरों के वीडियो फुटेज भी सोशल मीडिया में वायरल हुए थे जब एक नाबालिक बच्चा इस कंपनी की ड्रेस पहनकर काम कर रहा था ।इसी प्रकार जीएसटी का भी छापा पिछले दिनों इस कंपनी में पड़ चुका है और अब मजदूरों को मेहशताना ना देने की बात होना सामने आ गई है जिससे कि अधिकारियों द्वारा इस कंपनी को ब्लैकलिस्टेड करने की तैयारी की जा रही है।

शहर जिला कांग्रेस कमेंटी कर्मचारियों की लडाई मिल कर लड़ेगी:सौरभ शर्मा  

शहर जिला कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष सौरभ शर्मा ने कहा की बाबा बर्फानी कंपनी को नियमों को तकपर रखकर ठेके दिए जाते रहे हैं कंपनी द्वारा कई बार कर्मचारियों को वेतन न देने की बातें सामने आती रही है परंतु निगम प्रशासन एवं कुछ निर्वाचित जनप्रतिनिधियों के कृपा प्राप्त होने के कारण बाबा बर्फानी कंपनी को खुली लूट करने दी जा रही है कांग्रेस अध्यक्ष ने चेतावनी देता हुआ कहा यदि निगम प्रशासन द्वारा कर्मचारियों की मांग को संज्ञान में लेते हुए जल्द से जल्द कार्रवाई नहीं की गई तो शहर जिला कांग्रेस कमेटी कर्मचारियों साथ मिलकर उनकी लड़ाई कोम जबूती के साथ लड़ेगी।

साफ सफाई कर्मचारियों का 3 महीने से वेतन प्राप्त नहीं हुआ है जिसमें कि ठेकेदार कंपनी बाबा बर्फानी की बड़ी लापरवाही सामने आई है ।कंपनी के डायरेक्टर रितेश टंडन को इस संबंध में नोटिस दिया जा चुका है अगर जल्द से जल्द इन कर्मियों की 3 महीने का वेतन नहीं दिया गया तो आगे वैधानिक कार्यवाही की जाएगी ।आदित्य शुक्ला ,उद्यान अधिकारी

Rate this post

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button