देशमध्य प्रदेशराज्यलाइफ स्टाइल

पहली बीवी ने तलाक क्या दिया बंदे ने ‘आध्यात्मिक ज्ञान’ लेकर 87 शादियां कर डालीं, 88वीं की तैयारी है इस शख्स का कहना है- ‘मैं महिलाओं की भावनाओं के साथ खेलना नहीं चाहता हूं.’

इंडोनेशिया (Indonesia) के वेस्ट जावा (West Java) में एक जगह है माजालेंगका. यहां पर एक 61 साल के आदमी के शादी करने की खूब चर्चा है. क्यों? क्योंकि वो 88वीं बार शादी करने जा रहा है. चौंक गए क्या? हम भी चौंक गए थे. दिलचस्प बात ये है कि ये शख्स अपनी एक्स वाइफ से शादी करने जा रहा है. शादी करने के उसके शौक ने उसे स्थानीय लोगों के बीच ‘प्लेबॉय किंग’ की उपाधि दिला दी है. हालांकि उसका असली नाम ‘कान’ है.

कैसे बने ‘प्लेबॉय किंग’?

ट्रिब्यून न्यूज की एक रिपोर्ट के मुताबिक माजालेंगका के रहने वाले कान की शादी की चर्चाएं हैं. अब तक को 87 बार शादी रचा चुके हैं और 88वीं की तैयारी में हैं. कान पेशे से किसान हैं. रिपोर्ट के मुताबिक वो कहते हैं कि वो महिलाओं को उनके पास वापस लौटने से इनकार नहीं करते हैं.

क्यों की इतनी शादियां?

स्थानीय मीडिया मलय मेल से बात करते हुए कान ने बताया कि 14 साल की उम्र में उनकी पहली शादी हुई थी. उनकी पहली बीवी उम्र में उनसे दो साल बड़ी थी. मगर उनके बुरे व्यवहार के चलते दो साल में ही उनका तलाक हो गया था. इसके बाद उन्होंने शादी पर शादी करने का फैसला कर लिया. वो इसकी अजीबोगरीब वजह बताते हैं. कान के मुताबिक पहली बीवी से तलाक होने के बाद उन्हें बहुत गुस्सा आया था. उसके बाद उन्होंने ‘आध्यातमिक ज्ञान’ लिया ताकि लड़कियां उनसे प्यार करने के लिए मजबूर हो जाएं.

कान बताते हैं,

‘मैं ऐसी कोई भी चीज नहीं करना चाहता हूं जो लड़कियों या महिलाओं के लिए बुरा हो. और मैं उनकी भावनाओं के साथ खेलना नहीं चाहता हूं. इसीलिए महिलाओं के साथ गलत करने से बेहतर मैं उनसे शादी कर लूं.’

कान अपनी पुरानी पत्नियों से फिर शादी करते रहे हैं. उनकी 88वीं पत्नी बनने जा रही महिला पहले भी उनकी पत्नी रह चुकी है. लेकिन बीच में दोनों अलग हो गए थे. अब फिर से विवाह करने जा रहे हैं. कान मलय मेल को बताते हैं,

‘हमें अलग हुए काफी समय हो गया है, मगर हमारे बीच आज भी बहुत प्यार है.’

बातचीत के दौरान उन्होंने बताया कि ये महिला उनकी 86वें नंबर की वाइफ रही है. लेकिन शादी एक महीना ही टिक पाई थी.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button