बिज़नेसमध्य प्रदेश

IDFC फर्स्ट बैंक ने ऑफ़लाइन भुगतान को सफल करने के लिए RBI की पायलट परियोजना का हिस्सा बनने के लिए क्रंचफ़िश के साथ हाथ मिलाया जाने पूरी डिटेल्स 

IDFC फर्स्ट बैंक ने ऑफ़लाइन भुगतान को सफल करने के लिए RBI की पायलट परियोजना का हिस्सा बनने के लिए क्रंचफ़िश के साथ हाथ मिलाया जाने पूरी डिटेल्स। भारतीय रिजर्व बैंक के सीईओ शक्तिकांत दास को लंदन में एक बड़े सम्‍मान से नवाजा गया है। जब उन्‍हें 14 जून 2023 को लंदन में सेंट्रल बैंकिंग द्वारा 2023 के लिए गवर्नर ऑफ द ईयर के पुरस्‍कार से सम्‍मानित किया गया था। सेंट्रल बैंकिंग एक अंतरराष्ट्रीय आर्थिक शोध पत्रिका है। अब ये पुरस्‍कार के बाद आईडीएफसी के सीईओ ने जब शक्तिकांत दास से पूछा कि क्‍या आपका सरकार के साथ विवाद नहीं होता है तो इस पर उन्‍होंने कहा कि मैं विनम्रता से नहीं कह देता हूं।

IDFC फर्स्ट बैंक ने ऑफ़लाइन भुगतान को सफल करने के लिए RBI की पायलट परियोजना का हिस्सा बनने के लिए क्रंचफ़िश के साथ हाथ मिलाया जाने पूरी डिटेल्स

4743b7d0 a49b 423e b67e 45002c294ea3
IDFC फर्स्ट बैंक ने ऑफ़लाइन भुगतान को सफल करने के लिए RBI की पायलट परियोजना का हिस्सा बनने के लिए क्रंचफ़िश के साथ हाथ मिलाया जाने पूरी डिटेल्स

 

इस उपलब्धि पर क्‍या बोले आईडीएफसी सीईओ

शकितकांत दास को मिले इस पुरस्‍कार को लेकर आईडीएफसी के सीईओ वी वैद्यनाथन ने अपनी बात कहते हुए कहा कि 2018 में, भारत को बहुत सी  पूंजी की कमी वाले उधारदाताओं और नकदी के प्रवाह में कमी वाले उधारकर्ताओं के साथ ट्विन बैलेंस-शीट समस्या का सामना करना पड़ा। अब, पूंजी पर्याप्तता 16% से अधिक हो गई है। और उधारकर्ताओं के पास ट्विन बैलेंस शीट एडवांटेज के साथ मजबूत नकदी प्रवाह है। उन्‍होंने ये भी कहा कि कोविड -19 के दौरान आरबीआई द्वारा पेश किए गए उपाय बहुत टाइम कारगर साबित हुए। वो भी तब जब बॉन्ड बाजार स्थिर हो गए थे। इंटरबैंक लेंडिंग चोक हो गई।

IDFC फर्स्ट बैंक ने ऑफ़लाइन भुगतान को सफल करने के लिए RBI की पायलट परियोजना का हिस्सा बनने के लिए क्रंचफ़िश के साथ हाथ मिलाया जाने पूरी डिटेल्स

555 1590808237
IDFC फर्स्ट बैंक ने ऑफ़लाइन भुगतान को सफल करने के लिए RBI की पायलट परियोजना का हिस्सा बनने के लिए क्रंचफ़िश के साथ हाथ मिलाया जाने पूरी डिटेल्स

बताया गया की आरबीआई तेजी से आगे बढ़ा और सिस्टम को सामान्‍य करने और स्थिरता को बहाल करने के लिए अभिनव और लक्षित उपाय के साथ आगे बढ़ने लगा.बताया गया है कि शक्तिकांत दास को ये प्रतिष्ठित पुरस्कार उनके द्वारा मुद्रास्फीति के प्रभाव को प्रभावी ढंग से संभालने और COVID-19 महामारी और वैश्विक उथल-पुथल जैसी चुनौतीपूर्ण स्थितियों के माध्यम से हमारे देश  की भारत की बैंकिंग प्रणाली को नेविगेट करने के लिए दिया गया था। जिसमे  बड़े पुरस्‍कार के लिए शक्तिकांत दास का चयन इसलिए किया गया क्‍योंकि उन्‍होंने आरबीआई गवर्नर के रूप में महत्वपूर्ण सुधारों को लागू करने और भारत के प्रमुख भुगतान प्रणालियों को सुचारू रूप से संचालन करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। अब उन्होंने कठिन टाइम के दौरान असाधारण नेतृत्व का प्रदर्शन किया है।

IDFC फर्स्ट बैंक ने ऑफ़लाइन भुगतान को सफल करने के लिए RBI की पायलट परियोजना का हिस्सा बनने के लिए क्रंचफ़िश के साथ हाथ मिलाया जाने पूरी डिटेल्स

idfc first bank offering credit card at 9 percent rate of interest other bank charges upto 40 percen 1611116370
IDFC फर्स्ट बैंक ने ऑफ़लाइन भुगतान को सफल करने के लिए RBI की पायलट परियोजना का हिस्सा बनने के लिए क्रंचफ़िश के साथ हाथ मिलाया जाने पूरी डिटेल्स

उन्‍होंने उस दौरान आरबीआई के द्वारा किए उपायों पर अपनी बात कहते हुए कहा कि तनावग्रस्त संपत्तियों के लिए संकल्प अवधि बढ़ाना, रेपो दरों को कम करना जैसे कई उपाय शामिल हैं। e-KYC, e-mandates, e-समझौते और बहुत कुछ सहित RBI द्वारा शुरू की गई नवीन प्रणालियों को सूचीबद्ध किया।  IDFC के सीईओ वैद्यनाथन ने शक्तिकांत दास से पूछे गए एक सवाल में उन्‍होंने कहा कि क्‍या आपका सरकार के साथ कभी विवाद नहीं होता है। जिसके जवाब में उन्‍होंने कहा कि उन्होंने कहा देखिए, जब मुझे ना कहना होता है, तो मैं बस विनम्रता से  ‘नहीं’ कह देता हूं और इसका कारण बताता हूं। लड़ाई क्यों? हम देश की भलाई के लिए काम करते हैं। यह तरीका बहुत आसान है, मैंने इससे सीखा है।

IDFC फर्स्ट बैंक ने ऑफ़लाइन भुगतान को सफल करने के लिए RBI की पायलट परियोजना का हिस्सा बनने के लिए क्रंचफ़िश के साथ हाथ मिलाया जाने पूरी डिटेल्स

IDFC First Bank 16619398503x2 1
IDFC फर्स्ट बैंक ने ऑफ़लाइन भुगतान को सफल करने के लिए RBI की पायलट परियोजना का हिस्सा बनने के लिए क्रंचफ़िश के साथ हाथ मिलाया जाने पूरी डिटेल्स

कोविड 19 में बेहतरीन प्रबंधन भी रही वजह 

बताया गया है की शक्तिकांत दास ने के नाम की सिफारिश प्रकाशन की ओर से मार्च 2023 में की गई थी, जिसमें उनके उत्कृष्ट नेतृत्व की सराहना करते हुए उसे मान्यता दी गई। COVID-19 महामारी और रूस-यूक्रेन युद्ध जैसी अन्य महत्वपूर्ण घटनाओं के दौरान, दास ने भारत के केंद्रीय बैंक और संपूर्ण बैंकिंग प्रणाली के प्रबंधन में उल्लेखनीय कुशलता का प्रदर्शन किया।

2018 में शक्तिकांत दास ने संभाला था पद 

आरबीआई के मौजूदा गवर्नर शक्तिकांत दास ने दिसंबर 2018 में भारत में एक प्रमुख गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनी (NBFC) के दिवालिया होने से कुछ महीने पहले अपना पद संभाला था। जिसके मार्केट में लिक्‍विडिटी का संकट पैदा हो गया था। अब ये संकट ने विभिन्न मध्यम आकार के बैंकों के ट्रेड मॉडल में महत्वपूर्ण खामियों को उजागर किया था जो एनबीएफसी पर बहुत अधिक निर्भर थे। जिसके बाद, पंजाब और महाराष्ट्र सहकारी बैंक जैसे अन्य बैंकों को भी नुकसान का सामना करना पड़ा। अब इन चुनौतियों के बावजूद दास ने अपने नेतृत्व कौशल से स्थिति को प्रभावी ढंग से संभाले रखा। गौरतलब है कि दास 2015 में रघुराम राजन के बाद यह पुरस्कार पाने वाले आरबीआई के दूसरे गवर्नर हैं।

यह भी पढ़े 

RBI ने HSBC बैंक पर 1.73 करोड़ रुपये का लगाया जुर्माना  HSBC बैंक में खाता रखने वालों पर क्या पड़ेगा असर जाने पूरी डिटेल्स 

RBI ने Canara Bank पर लगाया बहुत से नियमों के उल्लंघन का आरोप, 2.92 करोड़ रुपये का जुर्माना जाने पूरी जानकारी 

RBI Governor ने क्या कहा1000 रुपये के पुराने नोटों की होगी वापसी? गवर्नर ने और भी क्या कहा जाने पूरी डिटेल्स 

Bank Locker Rules बैंक में लॉकर लेने वालों के लिए बड़ी खबर, RBI ने जारी की नई  गाइडलाइन लॉकर में रख सकेंगे सिर्फ ये चीज! जाने पूरी डिटेल्स 

Bank Locker Rules बैंक में लॉकर लेने वालों के लिए बड़ी खबर, RBI ने जारी की नई  गाइडलाइन लॉकर में रख सकेंगे सिर्फ ये चीज! जाने पूरी डिटेल्स 

IDFC फर्स्ट बैंक ने ऑफ़लाइन भुगतान को सफल करने के लिए RBI की पायलट परियोजना का हिस्सा बनने के लिए क्रंचफ़िश के साथ हाथ मिलाया जाने पूरी डिटेल्स 

Rate this post

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button