जबलपुरमध्य प्रदेशराज्य

9वीं-10वीं में बेस्ट फाइव पद्धति समाप्तः एक विषय में फेल हुए तो पूरी परीक्षा में फेल

माध्यमिक शिक्षा मंडल का निर्णय अगले सत्र से लागू होगी व्यवस्था

जबलपुर, यशभारत। स्कूल शिक्षा विभाग ने पांच साल बाद नवमी दसवी में बेस्ट आफ फाइव को समाप्त कर दिया है। नवमी दसवी में सामान्य गणित व उच्च गणित का विकल्प रहेगा। नवमी दसवी में सतत व्यापक मूल्यांकन की प्रक्रिया लागू रहेगी। इस संबंध में स्कूल शिक्षा विभाग ने गुरुवार को आदेश जारी कर दिए हैं। हालांकि बेस्ट आफ फाइव के समाप्त करने के निर्णय को वर्ष 2024-25 से लागू किया जाएगा।

दरअसल मप्र माध्यमिक शिक्षा मंडल की दसवीं परीक्षा में छह साल पहले वर्ष 2017 में आधे से अधिक फेल हो गए थे। इस संकट से उबरने के लिए स्कूल विभाग के अधिकारियों ने बेस्ट आफ फाइव योजना को लागू कर दिया था। इसमें परीक्षार्थी सभी छह विषय की परीक्षा में शामिल होंगे, लेकिन सर्वाधिक पांच अंक वाले विषयों के नंबर जोड़कर रिजल्ट घोषित किया जाएगा।

जबकि सबसे कम अंक आने वाले विषय को रिजल्ट में शामिल नहीं किया जाएगा। इससे विद्यार्थियों ने अंग्रेजी, गणित व विज्ञान जैसे महत्वपूर्ण विषयों को पढ़ना बंद कर दिया। बेस्ट आफ फाइव लागू होने के बाद दसवीं के वर्ष 2018 के रिजल्ट में काफी सुधार आया। लेकिन इसमें देखने में आया कि विद्यार्थियों ने गणित व अंग्रेजी पर ध्यान देना बंद कर दिया।

पिछले सालों में दसवीं की गणित व अंग्रेजी में सबसे ज्यादा विद्यार्थी फेल हुए हैं। गणित, विज्ञान जैसे प्रमुख विषयों में फेल होने के बाद भी विद्यार्थियों के पांच विषयों में पास होने पर पास की अंकसूची जारी की गई। लेकिन इसका नतीजा यह निकला कि यह छात्र आर्मी में भर्ती के लिए अयोग्य हो गए। इसे देखते हुए माशिमं द्वारा पिछले साल भी बेस्ट आफ फाइव को समाप्त करने के शासन को प्रस्ताव भेजा, लेकिन इसे अमान्य कर दिया गया था।

इस बार मंडल की समिति ने दोबारा प्रस्ताव भेजा। जिसके बाद गुरुवार को स्कूल शिक्षा विभाग के उप सचिव प्रमोद सिंह ने नवमी दसवी मे बेस्ट आफ फाइव को समाप्त करने के आदेश जारी कर दिए हैं। बेस्ट आफ फाइव को समाप्त करने का आदेश नवमी-दसवीं में वर्ष 2024-25 से लागू किया जाएगा।

जारी आदेश में कहा गया है कि शिक्षण सत्र 2023-24 से कक्षा 9वीं व 10वीं में सतत व्यापक मूल्यांकन प्रक्रिया लागू की जाएगी। शिक्षण सत्र 2023-24 में कक्षा नवमी व 2024-25 से कक्षा 10वीं में विद्यार्थियों को सामान्य गणित एवं उच्च गणित का विकल्प दिया जाएगा।

इस कारण समाप्त की गई बेस्ट आफ फाइव बेस्ट आफ फाइव प्रणाली के अंतर्गत छह विषयों में यदि विद्यार्थी एक में पास नहीं है, परंतु अंकसूची के अनुसार वह उत्तीर्ण है, तो वह भारत सरकार द्वारा लिए जाने वाला आमी (जीडी) के फार्म को नहीं भर सकता। क्योंकि उस फार्म में छात्रों को दसवी प्रणाली में विज्ञान, गणित एवं हिंदी जैसे विषयों में उत्तीर्ण होना अनिवार्य होता है म में संचालित आईटीआई में भी यदि छात्र गणित व विज्ञान के साथ दसवीं उत्तीर्ण नहीं करता है, तो कई ट्रेडस में प्रवेश के लिए अयोग्य घोषित किया जाता है। छात्र जिस विषय में कमजोर है, उस विषय की पढ़ाई नहीं करता है। ऐसे विषयों में गणित, अंग्रेजी व विज्ञान विषय शामिल है। मुख्य विषयों का महत्व कम हो गया है।

2017-18 में लागू हुई थी बेस्ट आफ फाइव योजना
बेस्ट आफ फाइव योजना को 10वीं के परिणाम में सुधार करने के लिए 2017-18 में लागू किया गया था। इस योजना के तहत अगर विद्यार्थी छह विषयों में से पांच विषय में पास हो जाता है और एक विषय में फेल होता है तो भी उसे पास घोषित किया जाता था। इसमें सर्वाधिक अंकों वाले पांच विषयों के नंबर जोड़कर परिणाम घोषित किया जाता था, जबकि सबसे कम अंक आने वाले छठवें विषय को रिजल्ट में शामिल नहीं किया जाता था।

Rate this post

Yash Bharat

Editor With मीडिया के क्षेत्र में करीब 5 साल का अनुभव प्राप्त है। Yash Bharat न्यूज पेपर से करियर की शुरुआत की, जहां 1 साल कंटेंट राइटिंग और पेज डिजाइनिंग पर काम किया। यहां बिजनेस, ऑटो, नेशनल और इंटरटेनमेंट की खबरों पर काम कर रहे हैं।

Related Articles

Back to top button