ग्वालियरजबलपुरदेशभोपालमध्य प्रदेशराज्य

पंच धातु से अहमदाबाद में बना 11.5 किलो का अजयबाण, 10 जनवरी को पहुंचेगा अयोध्या

अयोध्या में नवनिर्मित श्री राम मंदिर में पौराणिक ‘अजयबाण’ की प्रतिकृति रखी जाएगी. पांच फिट लंबे इस बाण की शक्तिपीठ अंबाजी में शास्त्रोक्त विधि-विधान के साथ पूजा अर्चना की गई. पौराणिक कथाओं के अनुसार, भगवान राम ने इसी बाण से रावण का वध किया था. सोने, चांदी, तांबे, पीतल और लोहे से बने इस बाण को बनाने में पांच लाख रुपये का खर्च आया है.
श्री आरासुरी देवस्थान ट्रस्ट, अंबाजी की प्रेरणा से अहमदाबाद के जय भोले ग्रुप ने पौराणिक धर्मग्रंथों में वर्णन के अनुसार अजयबाण की प्रतिकृति का निर्माण किया है. इसे अयोध्या में निर्माणाधीन श्री राम मंदिर में स्थापित किया जाएगा. इस अजयबाण की पूजा अर्चना शक्तिपीठ अंबाजी मंदिर के ब्राह्मणों द्वारा शास्त्रोक्त विधि विधान से की गई है.

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

पौराणिक कथाओं में है अजयबाण का वर्णन

पौराणिक कथाओं के अनुसार, अजयबाण के साथ शक्तिपीठ अंबाजी का अनोखा जुड़ाव पाया जाता है. त्रेतायुग में भगवान श्री राम और लक्ष्मणजी की मुलाकात जब ऋषि शृंगी से हुई, तो उन्होंने भगवान श्री राम को आद्यशक्ति मां अंबा की पूजा कर उन्हें प्रसन्न करने को कहा था. मां अंबा ने प्रसन्न होकर श्री राम को वरदान देते हुए आशीर्वाद के रूप में अजयबाण दिया था.

इसी अजयबाण से हुआ था रावण का वध

इसी अजयबाण से भगवान श्री राम ने दशानन रावण का वध किया था. अजयबाण से रावण का वध का उल्लेख माताजी की आरती में भी पाया जाता है. अजयबाण की प्रतिकृति को तैयार करने वाले जय भोले ग्रुप के फाउंडर दीपेश पटेल ने आज तक से कहा, ‘त्रेतायुग में मां अंबा ने भगवान श्री राम को अजयबाण दिया था, जिससे रावण का वध हुआ था.’

खास बॉक्स में रखा जाएगा अजयबाण

अब कलयुग में भगवान राम का भव्य मंदिर बन रहा है, तब पौराणिक कथा के अनुसार अजयबाण की प्रतिकृति बनाने की प्रेरणा मिली है. धनुर्वेद ग्रंथ में बाण के बारें में जानकारी मिलती है, उसे ध्यान में रखकर अजयबाण की प्रतिकृति बनाई गई है. इसलिए इस बाण की डिजाइन में आगे का हिस्सा मोटा बनाया गया है. श्री राम मंदिर की तरफ से अजयबाण के लिए एक विशेष बॉक्स डिजाइन करने को कहा गया है. इसके साथ अजयबाण के महत्व के बारें में जानकारी भी जोड़ी जाएगी.

5 फिट लंबा है 11.5 किलो वजनी अजयबाण

11.5 किलोग्राम वजन के इस अजयबाण को बनाने में सोना, चांदी, तांबा, पित्तल और लोहे का इस्तेमाल हुआ है. जिसकी लंबाई 5 फिट रखी गई है. महज 5 दिनों में ये अजयबाण अहमदाबाद की फैक्ट्री में बनकर तैयार हुआ है, जिसमें 5 लाख रुपए का खर्च आया है.

ये अजयबाण 10 जनवरी के दिन अयोध्या स्थित भव्य श्री राम मंदिर में अर्पण किया जाएगा. श्री राम भक्तों की श्रद्धा और आस्था को देखते हुए अजयबाण के दर्शन की व्यवस्था 7 जनवरी तक की गई है. इसके बाद 8 जनवरी को यह अजयबाण अयोध्या के श्री राम मंदिर में अर्पण करने के लिए अहमदाबाद से प्रस्थान करेगा.

Rate this post

Yash Bharat

Editor With मीडिया के क्षेत्र में करीब 5 साल का अनुभव प्राप्त है। Yash Bharat न्यूज पेपर से करियर की शुरुआत की, जहां 1 साल कंटेंट राइटिंग और पेज डिजाइनिंग पर काम किया। यहां बिजनेस, ऑटो, नेशनल और इंटरटेनमेंट की खबरों पर काम कर रहे हैं।

Related Articles

Back to top button