कटनीमध्य प्रदेश

आयुष्मान भारत योजना के भरोसे संचालित हो रहे कई निजी अस्पताल

जिले में 6 लाख लोगों के बने आयुष्मान कार्ड, अब तक 7 सौ से ज्यादा लोगों को मिला लाभ

■ आशीष रैकवार
कटनी, यशभारत। आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत जिले में चिन्हित किए गए अस्पतालों में से कई अस्पताल आयुष्मान भारत योजना से ही संचालित हो रहे हैं। यहां इस योजना का लाभ लेने के लिए आने वाले मरीजों को भर्ती करते हुए उनका उपचार किया जाता है और इसके बाद मनमाफिक बिल बनाकर शासन से राशि प्राप्त की जाती है। इस तरह केन्द्र सरकार की इस महत्वाकांछी योजना को कतिपय निजी अस्पतालों ने कमाई का जरिया बना लिया है। इसके अलावा कुछ अस्पताल ऐसे हैं, जो मरीज से पहले ही रकम जमा करा लेते हैं और बाद मेंं जब आयुष्मान भारत योजना की राशि प्राप्त होती है, तब मरीज को यह राशि वापस की जाती है। इस तरह लोगों की मजबूरी का फायदा उठाते हुए केन्द्र सरकार की इस योजना को पलीता लगाने का प्रयास किया जा रहा है। इस तरह की कई शिकायतें पिछले कुछ समय में सामने आई है। जिसमे माधवनगर स्थित एक प्राईवेट हॉस्पिटल की सबसे ज्यादा शिकायतें हैं लेििकन इसके बाद भी स्वास्थ्य विभाग द्वारा इन अस्पतालों के विरूद्ध कार्रवाई के नाम पर कागजी खानापूर्ति की जा रही है। प्राप्त जानकारी के मुताबिक आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत जिले में 6 लाख से अधिक लोगों के पंजीयन किए जा चुके हैं हालांकि यह संख्या कुल हितग्राहियों से कम है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा पिछले कुछ समय से शिविरों एवं अन्य माध्यमों से हितग्राहियों के आयुष्मान कार्ड बनाए जा रहे हैं, जिससे आपातकालीन स्थिति में लोगों को चिन्हित निजी अस्पतालों में उपचार की सुविध मुहैया हो सके। जानकारी के मुताबिक कटनी जिले में कुल 8 लाख 26 हजार 992 हितग्राहियों का आयुष्मान भारत योजना के तहत पंजीयन करते हुए आयुष्मान कार्ड बनाया जाना है। इसमे से अभी तके 6 लाख 33 हजार 282 लोगों के आयुष्मान कार्ड बनाए जा चुके हैं। स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक शेष हितग्राहियों के पंजीयन के लिए लगातार प्रयास किए जा रहे हैं। बताया जाता है कि पंजीकृत किए गए 6 लाख 33 हजार 282 में से अब तक 744 मरीजों ने आयुष्मान भारत योजना का लाभ प्राप्त किया है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ आर के अठ्या ने कहा कि यदि किसी चिन्हित अस्पताल में आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत उपचार में किसी भी प्रकार की दिक्कत आ रही है तो स्वास्थ्य विभाग में अपनी लिखित शिकायत दी जा सकती है।

Screenshot 20240510 135002 WhatsApp Screenshot 20240510 135015 WhatsApp निजी अस्पतालों ने कमाई का जरिया बनाया योजना को
मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ आर के अठ्या ने बताया कि जिले के कुल 16 शासकीय एवं निजी अस्पतालों में आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत उपचार की सुविधा उपलब्ध है। इनमे जिला चिकित्सालय कटनी, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र बड़वारा, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र बरही, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र उमरियापान, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र बहोरीबंद, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र विजयराघवगढ़, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र रीठी, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पहाड़ी के अलावा निजी अस्पतालों में एमजीएम हॉस्पिटल, चांडक हॉस्पिटल, गुरूकृृपा हॉस्पिटल, मां दुर्गा हॉस्पिटल, वर्धमान हॉस्पिटल, जी जी नर्सिंग होम, कटनी लाइफ केयर एंड रिसर्च सेंटर एवं धर्मलोक हॉस्पिटल शामिल है।

Related Articles

◆ क्या है आयुष्मान भारत योजना
आयुष्मान भारत योजना या प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना भारत सरकार की एक स्वास्थ्य योजना है, जिसे 23 सितम्बर 2018 को लागू किया गया था। 2018 में इस योजना की घोषणा की गई थी। इस योजना का उद्देश्य आर्थिक रूप से कमजोर लोगों बीपीएल धारक को स्वास्थ्य बीमा मुहैया कराना है। इसके अन्तर्गत आने वाले प्रत्येक परिवार को 5 लाख तक का कैशरहित स्वास्थ्य बीमा उपलब्ध कराया गया है। इसका उद्देश्य व्यक्तियों और उनके परिवारों को सस्ती दरों पर गुणवत्तापूर्ण चिकित्सा प्रदान करना है, ताकि लोग बिना किसी परेशानी के बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं प्राप्त कर सकें। आप स्वास्थ्य सेवाओं तक पहुंचने के लिए कार्ड का उपयोग कर सकते हैं। कार्ड में आपका पूरा मेडिकल इतिहास और स्वास्थ्य रिकॉर्ड भी होता है, जिसे बीमा कंपनियां और अस्पताल एक स्थान पर पहुच सकते हैं।

◆ इनका कहना है
केन्द्र सरकार की इस महत्वाकांक्षी योजना के तहत अधिक से अधिक लोगों के आयुष्मान कार्ड बनाने का प्रयास किया जा रहा है। जिले में अब 6 लाख से अधिक लोगों को पंजीकृत किया जा चुका है। जिन अस्पतालों में आयुष्मान कार्ड होने के बाद भी यदि मरीज का उपचार नहीं किया जाता है, उन पर शिकायत मिलने पर कार्यवाही की जा रही है।
-डॉ आर के अठ्या, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी

Yash Bharat

Editor With मीडिया के क्षेत्र में करीब 5 साल का अनुभव प्राप्त है। Yash Bharat न्यूज पेपर से करियर की शुरुआत की, जहां 1 साल कंटेंट राइटिंग और पेज डिजाइनिंग पर काम किया। यहां बिजनेस, ऑटो, नेशनल और इंटरटेनमेंट की खबरों पर काम कर रहे हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button