जबलपुरभोपालमध्य प्रदेशराज्य

व्‍यावसायिक दक्षता, परिश्रम, ईमानदारी, संतुलित आचरण से ही आप बनेंगे आदर्श पुलिस अधिकारी : डीजीपी सुधीर सक्सेना

मध्यप्रदेश पुलिस अकादमी में 43वां उप पुलिस अधीक्षक प्रशिक्षण का शुभारंभ

भोपाल। मध्यप्रदेश पुलिस अकादमी, भौंरी में बुधवार को 43वें उप पुलिस अधीक्षक प्रशिक्षण बैच का शुभारंभ हुआ। डीजीपी श्री सुधीर सक्सेना के मुख्य आतिथ्य में यह प्रशिक्षण प्रारंभ किया गया।

 

इस अवसर पर डीजीपी श्री सक्सेना ने 23 प्रशिक्षु डीएसपी को संबोधित करते हुए कहा कि आप सभी भाग्यशाली हैं कि आपको पुलिस सेवा, विशेषकर मध्यप्रदेश पुलिस सेवा का अवसर प्राप्त हो रहा है। पुलिस सेवा में आने के बाद वंचितों, पीड़ितों, असहायों की सहायता कर अच्छे पुलिस अधिकारी के साथ अच्छे नागरिक भी बनें। अकादमिक तथा फील्‍ड प्रशिक्षण पूरी तन्‍मयता से प्राप्‍त करें। गंभीरता, व्‍यावसायिक दक्षता, कठोर परिश्रम, ईमानदारी, संतुलित आचरण तथा सद्व्‍यवहार से ही आप आदर्श पुलिस अधिकारी हो सकेंगे। उन्होंने प्रशिक्षु अधिकारियों को चयनित होने पर शुभकामनाएं देते हुए उनकी सफलता में प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से सहभागी रहे स्वजनों, मित्रों आदि को भी बधाई देते हुए उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की।

 

प्रशिक्षण कार्यक्रम के उद्घाटन सत्र में विशिष्ट अतिथि के रूप में विशेष पुलिस महानिदेशक (प्रशिक्षण) श्री संजय कुमार झा, पीएसओ टू डीजीपी डॉ. विनीत कपूर, मध्यप्रदेश पुलिस अकादमी के उप निदेशक/पुलिस अधीक्षक श्री मलय जैन, सभी प्रशिक्षक, पुलिस अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन मप्र पुलिस अकादमी के सहायक निदेशक (प्रशिक्षण) श्री नीरज पांडेय ने किया। आभार प्रदर्शन सहायक निदेशक (प्रशासन एवं संपदा) श्रीमती यास्मिन जहरा ने किया।

 

व्‍यावसायिक उत्‍कृष्‍टता, पारदर्शिता एवं व्‍यवहार कुशलता जरूरी

डीजीपी श्री सक्सेना ने मध्यप्रदेश पुलिस के गौरवशाली इतिहास से भी प्रशिक्षु अधिकारियों को अवगत कराया। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश पुलिस ने प्रदेश ही नहीं देश भर में गंभीर चुनौतियों का समाधान किया है और हर मोर्चे पर उत्‍कृष्‍ट कार्य का प्रदर्शन किया है।

 

मध्‍यप्रदेश में डकैत समस्‍या का उन्‍मूलन, आसामाजिक तथा राष्‍ट्रविरोधी संगठनों के विरूद्ध लगातार प्रभावी कार्यवाही, नक्‍सली समस्‍या के समाधान तथा महिला सुरक्षा के लिए उठाए जा रहे कदमों की भी जानकारी दी। डीजीपी ने कहा कि वर्तमान में जन अपेक्षाएं भी बड़ी हैं, अत: व्‍यावसायिक उत्‍कृष्‍टता, पारदर्शिता एवं व्‍यवहार कुशलता से ही आप इन अपेक्षाओं पर खरे उतर सकते हैं। कानूनी प्रावधानों की अद्यतन जानकारी रखें। विवेचना विधि अनुसार करें। अपने साथी पुलिस अधिकारियों और कर्मचारियों के साथ-साथ आमजन से सतत् और अच्‍छा संवाद एवं अच्‍छा व्‍यवहार आपको सफल पुलिस अधिकारी बनने में सहायक होगा।

 

अनुशासित रहें, कर्तव्यनिष्ठ बनें: श्री संजय झा

कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि विशेष पुलिस महानिदेशक श्री संजय कुमार झा ने कहा कि खाकी वर्दी पहनने के बाद जिंदगी के मायने बदल जाते हैं। त्योहार पुलिस अधिकारी के लिए चुनौती की तरह होते हैं। नागरिक त्योहार को शांतिपूर्ण ढंग से मना पाएं, इसकी जिम्मेदारी पुलिस पर होती है। अनुशासन और कर्तव्यनिष्ठा अच्छे पुलिस अधिकारी की विशेषता होती है। उन्होंने कहा कि पुरानी पुलिसिंग और नई पुलिसिंग में काफी बदलाव हुए हैं। नए कानून भी पुलिस अधिकारी के लिए चुनौती के समान है। कानून का ज्ञान पुलिस अधिकारी के लिए आवश्यक है। अपराधियों के अपराध करने के तरीकों में भी पहले की अपेक्षा काफी बदलाव हुए हैं। अब नए-नए तरीकों से अपराधी अपराध कर रहे है, इनसे निपटने के लिए हमें भी दक्ष होना पड़ेगा। श्री झा ने कहा कि प्रशिक्षण प्राप्त करने के बाद आप एक अच्छे पुलिस अधिकारी बनेंगे।

 

*यह अधिकारी प्राप्त कर रहे प्रशिक्षण*

मध्यप्रदेश पुलिस अकादमी, भौंरी में बुनियादी प्रशिक्षण प्राप्त करने के लिए 23 उप पुलिस अधिक्षकों का बैच पहुंचा है। इनमें 9 महिला अधिकारी भी शामिल हैं। इस संबंध में जानकारी देते हुए मध्यप्रदेश पुलिस अकादमी के उप निदेशक/पुलिस अधीक्षक श्री मलय जैन ने बताया कि प्रशिक्षण की अवधि दो वर्ष की होगी। अकादमी में अप्रैल 2025 तक यह सभी अधिकारी प्रशिक्षण प्राप्त करेंगे। इस वर्ष सिलेबस में विशेष रूप से नए कानूनों और चाइल्ड राइट्स को शामिल किया गया है।

 

प्रशिक्षण लेने वाले अधिकारियों में श्री ललित बैरागी, श्री हर्ष राठौर, श्री आनंद कुमार राय, सुश्री अवनधती प्रधान, सुश्री दिव्या झारिया, श्री आशुतोष त्यागी, श्री हेमंत कुमार, श्री लोकेश छापरे, सुश्री प्रेक्षा पाठक, सुश्री अनीषा जैन, श्री दीपक सिंह मरावी, श्री अक्षय डिगरसे, श्री गगन हनवत, सुश्री रोशनी कुर्मी, सुश्री शैफा हाशमी, श्री हेमंत पांडेय, श्री ऋषभ छारी, श्री सुजीत कुमार कड़वे, सुश्री शिवा पाठक, सुश्री प्रतिमा जैन, श्री आशीष कुमार कुशवाह (जिला सेनानी, होमगार्ड), सुश्री अन्नपूर्णा सिरसाम, श्री हर्ष शर्मा उपुअ (एमटी) शामिल l

Yash Bharat

Editor With मीडिया के क्षेत्र में करीब 5 साल का अनुभव प्राप्त है। Yash Bharat न्यूज पेपर से करियर की शुरुआत की, जहां 1 साल कंटेंट राइटिंग और पेज डिजाइनिंग पर काम किया। यहां बिजनेस, ऑटो, नेशनल और इंटरटेनमेंट की खबरों पर काम कर रहे हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button