जबलपुर

बमों से बारूद क्यों एकत्रित करता था शमीम ? सवाल अब भी बरकरार…..

 

ओएफके-आमला एयरफोर्स के अधिकारियों से एनआईए करेगी पूछताछ

खजरी खिरिया कबाड़ गोदाम विस्फोट मामला

 

जबलपुर,यशभारत। खजरी खिरिया स्थित शमीम के कबाड़ गोदाम में हुए विस्फोट के मामले में अब नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी की टीम आयुध निर्माणी खमरिया और बैतूल के आमला एयरफोर्स के अधिकारियों से पूछताछ करने वाली है। जिससे कि जांच के दायरे को और आगे बढ़ाया जा सके। अभी तक की जांच में एसआईटी टीम, एनआईए के हाथ ऐसे कई दस्तावेज हाथ लगे हैं जिससे स्पष्ट हुआ है कि मोहम्मद शमीम के पास कई संस्थानों से बमों के स्क्रैप लेने का ठेका था जिसके जरिए वह बमों के स्क्रैप को खरीदकर अपने गोदाम तक लाता था। इसके बाद वह बमों के खोखों में से बारूद को निकलवाकर एकत्रित करता था। शमीम ऐसा क्यों करता था इस पर अभी भी सवाल खड़ा हुआ है। उधर नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी, नेशनल सिक्योरिटी गार्ड, आईबी, मिलिट्री और मध्यप्रदेश पुलिस, जबलपुर पुलिस की टीमें अपने-अपने स्तर पर साक्ष्य एकत्रित कर जांच आगे बढ़ा रही हैं। मुख्यत: पुलिस को फरार शमीम की गिरफ्तारी का इंतजार है जिसके पकड़े जाने के बाद और कई राज खुल सकेंगे।

जांच दल के अधिकारी हो रहे हैरान
जानकारी के अनुसार खजरी खिरिया बायपास स्थित रजा मैटल कबाड़ गोदाम में जांच दल को प्रतिदिन बड़ी मात्रा में बमों के स्क्रैप मिल रहे हैं जिन्हें देखकर अधिकारी भी हैरान हैं कि इतनी बड़ी मात्रा में स्क्रैप और बम यहां तक पहुंचे कैसे। इनमें से कुछ जिंदा बम भी जांच दल को मिल रहे हैं। जानकारों का कहना है कि एक साथ इतने सारे स्क्रैपों व बमों के खोखों को नष्ट करना संभव नहीं है इसलिए दिन-ब-दिन बमों व उसके खोखों को नेशनल सिक्योरिटी गार्ड के बम निरोधक दस्ते व बीडीडीएस टीम द्वारा नष्ट किया जा रहा है। इस दौरान अमले द्वारा प्रोटोकॉल का भी पालन किया जा रहा है।

शमीम के करीबियों पर है नजर
जानकारी के अनुसार फरार हिस्ट्रीशीटर मोहम्मद शमीम के करीबियों, परिजनों और रिश्तेदारों पर पुलिस की टीम नजर बनाए हुए है। जांच टीम ये भी नजर बनाए रखे हुए है कि शमीम के रिश्तेदार, दोस्त देश में कहां-कहां रह रहे हैं। इसके साथ ही पुलिस की कई टीमें शमीम की गिरफ्तारी के लिए जुटी हुईं हैं।

शमीम का बेटा भी गया जेल
विस्फोट मामले में अधारताल पुलिस ने शमीम के बेटे फहीम को कोर्ट में पेश किया जहां से उसे जेल भेज दिया गया है। विदित हो कि सुल्तान अली को गिरफ्तार करने के बाद पुलिस ने कोर्ट में पेश किया था जिसे पहले ही जेल भेज दिया गया था। कई दिनों तक पुलिस रिमांड पर रहे दोनों आरोपियों ने पुलिस को जो जानकारियां दीं हैं उससे स्पष्ट है कि शमीम ने कबाड़ के गोदाम के कारोबार से करोड़ों की संपत्ति जुटाई है और वह सुरक्षा संस्थानों से बमों के स्क्रैप अपने गोदाम में लेकर आता था।

 

Yash Bharat

Editor With मीडिया के क्षेत्र में करीब 5 साल का अनुभव प्राप्त है। Yash Bharat न्यूज पेपर से करियर की शुरुआत की, जहां 1 साल कंटेंट राइटिंग और पेज डिजाइनिंग पर काम किया। यहां बिजनेस, ऑटो, नेशनल और इंटरटेनमेंट की खबरों पर काम कर रहे हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button