इसकी सुगंध और स्वाद की वजह से लोग इस चावल को खाना ज्यादा पसंद करते हैं। इसके भाव भी बाजार में सामान्य धान से ज्यादा मिलते हैं। जो किसान बासमती धान की खेती करना चाहते हैं उन किसानों के लिए बासमती धान की कुछ किस्में ऐसी हैं जो कम लागत में अच्छी पैदावार देती हैं। आइये जानते है बासमती धान की कुछ उन्नत किस्मे जो पैदावार में बढ़ती है।

जानिए बारिश के पहले यदि आपको करना है धान की खेती तो जाने बासमती धान की उन्नत किस्मो की जानकारी, जो 60 से 70 क्विंटल प्रति हैक्टेयर के हिसाब से की जाती है पैदावार

maxresdefault 2023 06 13T165104.667
जानिए बारिश के पहले यदि आपको करना है धान की खेती तो जाने बासमती धान की उन्नत किस्मो की  जानकारी, जो 60 से 70 क्विंटल प्रति हैक्टेयर के हिसाब से की जाती है पैदावार

1. पूसा 1401 धान की किस्म

अब आपको बासमती धान की पूसा 1401 किस्म के बारे में बताये तो धान की अर्द्ध बौनी किस्म है जो 135 से 140 दिन में पककर तैयार हो जाती है। इस किस्म से प्रति हैक्टेयर 4-5 टन तक पैदावार मिल सकती है। यह किस्म उत्तर भारत के सिंचित क्षेत्रों के लिए अधिक उपयुक्त पाई गई है।

2. पंत धान-12 धान की किस्म

पंत धान-12 बासमती की धान की उन्नत किस्म है। इसकी सबसे बड़ी खासियत यह है. कि ये किस्म कम समय में पककर तैयार हो जाती है। यह किस्म अन्य बासमती किस्मों की तुलना में अधिक पैदावार देती है। इस किस्म को तैयार होने में करीब 110 से 115 दिन का समय लगता है। इस किस्म से प्रति हैक्टेयर 7-8 टन तक उपज प्राप्त की जा सकती है।

3. पूसा सुगंध-5 धान की किस्म

पूसा सुगंध-5 धान की किस्म की बात करे तो पूसा सुंगध 5 सिंचित अवस्था में खेती के लिए बेहतरीन किस्मों में से एक है। इस किस्म का दाना सुगंधित और अधिक लंबा होता है। बासमती धान की ये किस्म 125 दिन में पककर तैयार हो जाती है। इस किस्म से करीब 60 से 70 क्विंटल प्रति हैक्टेयर पैदावार प्राप्त की जा सकती है।

यह भी पढ़े :-

कोतवाली चोरी का खुलासा : सिवनी से जबलपुर आकर युवक ने शॉप से पार किए थे लाखों के मोबाइल

जबलपुर के 3 चाकूबाज गिरफ्तार : सिविक सेंटर में रंजिशन दोस्तों ने एक दूसरे पर किए वार, पुलिस जांच जारी

जानिए बारिश के पहले यदि आपको करना है धान की खेती तो जाने बासमती धान की उन्नत किस्मो की जानकारी, जो 60 से 70 क्विंटल प्रति हैक्टेयर के हिसाब से की जाती है पैदावार 

Rate this post

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button