कटनीजबलपुरभोपालमध्य प्रदेशराज्य

जिलाध्यक्ष समेत आम आदमी पार्टी की पूरी कार्यकारिणी भाजपा में शामिल : केजरीवाल के जेल जाते ही आप को जोरदार झटका

कटनी, यशभारत। शराब घोटाले में अरविंद केजरीवाल के जेल जाने के बाद राष्ट्रीय स्तर पर सुर्खियों में छाई आम आदमी पार्टी को आज कटनी में तगड़ा झटका लगा। ऐन लोकसभा चुनाव के बीच जिलाध्यक्ष सुनील मिश्रा समेत पूरी जिला कार्यकारिणी भाजपा में शामिल होने कटनी से पन्ना रवाना हो चुकी थी।

 

पन्ना में आज खजुराहो लोकसभा क्षेत्र के बीजेपी प्रत्याशी वीडी शर्मा के नामांकन के मौके पर पार्टी ने मेगा रोड शो आयोजित किया। इस बड़े कार्यक्रम में आम आदमी पार्टी के नेताओं ने भाजपा का दामन थाम लिया। लोकसभा चुनाव के पहले भाजपा नेता पूरे प्रदेश में पार्टी के पक्ष में माहौल बनाने के लिए दूसरे दलों के नेताओं को अपनी पार्टी में शामिल कर रहे हैं।

 

खजुराहो लोकसभा क्षेत्र सीधे तौर पर बीजेपी के एमपी चीफ विष्णुदत्त शर्मा का है, लिहाजा यहां अन्य दलों को कमजोर करने की मुहिम ज्यादा तेज है। इसी के तहत पहले भी जिले के अनेक जनप्रतिनिधियों और नेताओं को बीजेपी के पाले में लाया जा चुका है। ताजा मामला आम आदमी पार्टी का है। पार्टी के जिलाध्यक्ष सुनील मिश्रा ने यशभारत से बातचीत में इस खबर की पुष्टि की कि आम आदमी पार्टी की पूरी जिला कार्यकारिणी के साथ वे भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता ले रहे हैं।

 

पन्ना जाकर वे केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी, मुख्यमंत्री मोहन यादव और प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा कटनी के वरिष्ठ नेताओं की मौजूदगी में भाजपा में शामिल होंगे। सुनील मिश्रा ने कहा कि आम आदमी पार्टी के इंडिया गठबंधन में शामिल होने से वे आहत थे। सनातन विरोधियों से इंडिया गठबंधन में शामिल लोगों के गहरे ताल्लुकात हैं।

 

आम आदमी पार्टी में रहकर उन्होंने लंबे समय तक संघर्ष किया, लेकिन जनता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की विचारधारा के साथ है। सदस्यता लेने वालों में जिला उपाध्यक्ष रणजीत मौर्य, शेखर खत्री, रामसिंह गुप्ता, ब्लाक अध्यक्ष मनोज चौबे, राजभान सिंह, शमीम अंसारी आदि शामिल हैं।

दो बार विधानसभा चुनाव लड़ चुके सुनील

आप छोडक़र भगवा दल के साथ आ चुके सुनील मिश्रा मुड़वारा विधानसभा क्षेत्र से आम आदमी पार्टी की टिकट पर 2018 और 2023 का विधानसभा चुनाव लड़ चुके हैं। 2018 के चुनाव में पार्टी को करीब 8 हजार वोट हासिल हुए थे जबकि कड़ी मेहनत के बावजूद 2023 के चुनाव में आप को ढाई हजार वोटो के आंकड़े पर सिमटना पड़ा।

 

इसके बाद से सुनील मिश्रा और उनके साथी अपने सियासी भविष्य को लेकर चिंतित थे। वे बीजेपी नेताओं के लगातार संपर्क में थे। बातचीत के बाद आखिरकार उन्होंने जिला कार्यकारिणी के सारे पदाधिकारियों और प्रकोष्ठों में शामिल साथियों के साथ पन्ना जाकर भाजपा की सदस्यता ले ली।

सुनील ने ही दिलाई आप को पहचान

गौरतलब है कि सुनील मिश्रा ने सबसे पहले कांग्रेस में रहकर अनेक पदों पर काम किया। बाद में वे आम आदमी पार्टी के साथ जुडक़र अपनी नई राजनीतिक जमीन तैयार करने में जुट गए। इसमें कोई शक नही कि कटनी जिले में उन्होंने आप का मजबूत संगठन खड़ा किया।

 

प्रकोष्ठों में नियुक्तियां की और एक बड़ी टीम तैयार करते हुए पार्टी को जिला स्तर पर पहचान दिलाई। नगर निगम चुनाव में भी आप ने अपने उम्मीदवार उतारे पर चुनाव दर चुनाव पार्टी को असफलता ही हाथ आई।

Rate this post

Related Articles

Back to top button