जबलपुरभोपालमध्य प्रदेश

तेज ठंड ; बूंदाबांदी ने बरपाया कहर, रेलवे स्टेशन पर ट्रेनों की लेटलतीफी से लोग हलाकान

 

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

नरसिंहपुर यशभारत। सर्द हवाओं के चलते ठंड अपना असर दिखा रही है। गर्म कपड़ों से शरीर ढकने के बाद भी लोग ठंड से राहत नहीं पा रहे हैं। आज शुक्रवार की सुबह से बूंदाबांदी होती रही और ठंडी हवाओं ने लोगों को हलाकान कर दिया। सुबह और शाम बुरा हाल है। कई दिनों से पड़ रही ठंड ने जनजीवन को बुरी तरह प्रभावित कर दिया है। दिन में सूर्य देवता के दर्शन तक नही हो रहे है। बच्चों को शीतलहर में ठिठुरते हुए स्कूल जाना पड़ रहा है। उधर, रेलवे स्टेशन पर ट्रेनों की लेटलतीफी के कारण यात्रियों को प्लेटफार्म पर ही रात काटने को मजबूर होना पड़ता है। शीतलहर के चलते लोग कंपकंपा रहे हैं।

ठंडी हवा के चलते लोग ठिठुरते रहे। शाम होते ही शीतलहर और बढ़ गई। हाड़ कंपा देने वाली सर्दी से जनजीवन बुरी तरह प्रभावित हो रहा है। सर्दी में खुले रिक्शाओं व अन्य वाहनों से बच्चों को स्कूल जाना पड़ रहा है। शीतलहर का असर बाजार पर भी पड़ रहा है। ग्राहक कम आ रहे हैं तथा शाम होते ही सन्नाटा पसर जाता है। सर्दी के कारण बसों और ट्रेनों का संचालन भी बाधित हो रहा है। रेलवे स्टेशन पर ट्रेनों की लेटलतीफी के कारण यात्रियों को प्लेटफार्म पर ही रात काटने को मजबूर होना पड़ता है, और अपने-अपने जतन से ठंड से बचने का प्रयास कर रहे है।

बुजुर्गों के लिए आफत बनी ठंड
कड़ाके की ठंड सेहत पर भारी पड़ सकती है। यदि सावधानी न बरती जाए तो यह जानलेवा भी है। चिकित्सकों का कहना है कि दिल और श्वांस के मरीजों के लिए इस तरह के मौसम में बड़ी परेशानी खड़ी हो जाती है। तेज ठंड और कोहरे में अस्थमा का अटैक पडऩे की आशंका रहती है। दिल के मरीज सुबह घूमने न जाएं। पूरे कपड़े पहनकर रखें। गुनगुने पानी का सेवन करते रहें। यदि कोई परेशानी हो तो तुरंत चिकित्सक को दिखाएं।

ठंड से बचने अलाव का ले रहे सहारा
सर्द हवाओं के कारण जिले में अलसुबह ओस जम गई। घर के बाहर खड़ी वाहनों सहित कार की छत पर ओस जम गई। कृषक ने बताया कि अलसुबह फसलों के अलावा सिंचाई के पाइप पर भी ओस जम गई। कंपकंपा देने वाली ठंड के चलते लोगों को अलाव का सहारा लेना पड़ा। मौसम विभाग आगामी दिनों में इससे भी कम तापमान गिरने की संभावना जता रहा है।

गर्म कपड़े व इलेक्ट्रिानिक्स दुकानों पर देखी जा रही अत्याधिक भीड़भाड़
तापमान में गिरावट के चलते गर्म कपड़ों की दुकान पर तो भीड़ है ही इलेक्ट्रिक और इलेक्ट्रानिक्स सामान की दुकानों पर पर खरीदारों की भीड़ बढ़ी है। ठंड से हीटर-ब्लोअर, गीजर का बाजार गर्म हो गया है। दुकानदारों की मानें तो रूम हीटर और ब्लोअर खरीदने वाले ग्राहकों की संख्या में तीन गुना तक इजाफा हुआ है। व्यापारियों के मुताबिक लोग सामान के दाम के साथ उसमें होने वाली बिजली की खपत का हिसाब जरूर लगा रहे हैं। ऐसे में ब्रांडेड सामान की विशेष डिमांड है। हीटर और ब्लोवर के अलावा गीजर और इमरसन राड के भी काफी ग्राहक आ रहे हैं। अभी तो सर्दी की शुरुआत है। ठंड अगर टिकी रही तो यह डिमांड और बढ़ेगी। इधर, बाजार में रजाई-गद्दे, गर्म कपड़ों की भी खूब बिक्री हो रही है। महिलाएं बच्चों की जरूरत के अनुसार गर्म कपड़े खरीद रही हैं। तेज ठंड को देखते हुए दुकानदारों सहित छोटे कपड़ा विक्रेताओं ने माल का स्टाक करके रख लिया है। वही नगर के विभिन्न स्थानों पर फुटपाथ पर गर्म कपड़े बेचे जा रहे है, फुटपाथ पर लगी गरम कपड़ों की दुकानों में पहुंचकर नागरिक गरम कपड़े खरीद रहे है, इन दुकानों पर अत्याधिक नागरिकों की भीड़भाड़ देखी जा रही है।

सांस रोगियों की संख्या में हो रहा इजाफा
जानकारी के अनुसार ठंड ने सांस के रोगियों की संख्या में इजाफा कर दिया है। जिला अस्पताल से लेकर प्राइवेट अस्पताल तक सर्दी, खांसी व सांस फूलने के रोगियों की संख्या बढ़ गई है। जिला अस्पताल में रोजाना सर्दी जनित बीमारियों के मरीज पहुंच रहे है। मौसम बदलने के साथ ही सुबह व शाम को काफी ठंड होने लगी है। मुंह व नाक के द्वारा ठंडी हवा अंदर जाने से सांस की नली में सूजन आ जाती है, जिससे सांस लेने में दिक्कत होती है। ठंड के मौसम में छोटे बच्चों को सांस लेने में परेशानी होती है। सामान्य दिनों की तुलना में सांस के रोगियों की संख्या बढ़ रही है।

कार्यालयों में दिख रहा ठंड का असर
सरकारी व निजी कार्यालयों में भी ठंड का असर दिख रहा है। जिन कर्मचारियों का कामकाज ज्यादा है और टेबल से नहीं हट सकते उन्होंने अपनी व्यवस्था से हीटर लगवा रखा है। ठंड का असर लोगों की सेहत पर भी पडऩे लगा है। डॉक्टरों के मुताबिक अधिक ठंड में अस्थमा व हृदय रोगियों को मॉर्निंग वाक से बचना चाहिए। वहीं चिकित्सालय में भी ठंड से बचने के लिए डॉक्टर रूम से बाहर परिसर में टेबिल लगाकर गुनगुनी धूप का आनंद लेते हुए मरीजों का इलाज कर रहे है।

Rate this post

Related Articles

Back to top button