जबलपुरमध्य प्रदेशराज्य

बरेला स्वास्थ्य केंद्र के भरोसे 80 गांव, नहीं हैं डॉक्टर! • मरीजों को नही मिल रहा इलाज

जबलपुर यश भारत। बरेला वा बरेला के आसपास स्थित 80 गांव एक ही प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के भरोसे हैं लेकिन इन दिनों वह भी भगवान भरोसे चल रहा है। यहां पर पदस्थ प्रभारी डॉक्टर का भोपाल तबादला हो गया है। इसके कारण इस अस्पताल में नए चिकित्सक की पदस्थापना न होने से अस्पताल में डॉक्टर नहीं हैं। यहां नगर तथा आसपास के मरीज जब इलाज कराने आते हैं तो डॉक्टर के न होने से उन्हें परेशारियों का सामना करना पड़ता है।

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

गौरतलब है कि यहां पर पहले बीएमओ का मुख्यालय था किंतु 3 साल पूर्व यह मुख्यालय भी बरगी चला गया डॉक्टर के चले जाने के कारण अब लोगों को इलाज के लिए जिला चिकित्सालय या फिर प्रायवेट अस्पतालों का रुख करना पड़ रहा है। सरकारी अस्पताल में पदस्थ होम्योपैथिक चिकित्सक के भरोसे यहां की ओपीडी चल रही है। परिजनों का इलाज कराने आए लोगों का कहना है कि अस्पताल में कोई डॉक्टर नहीं है इसके कारण उन्हें होम्योपैथिक चिकित्सक से ही इलाज कराना पड़ रहा है।

उच्च अधिकारियों को नहीं है चिंता

प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के अंतर्गत 80 गांव आते हैं. यहां के लोग इलाज के लिए केवल प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर ही निर्भर है।डॉक्टर स्वास्थ्य केंद्र में नहीं हैं किंतु इसके बावजूद भी बीएमओ और सीएमएचओ द्वारा इस अस्पताल में अभी तक कोई भी एमबीबीएस डॉक्टर की व्यवस्था नहीं की गई है। बीएमओ और सीएमएचओ द्वारा डॉक्टर को रिलीव करने के पहले यहां पर डॉक्टर की व्यवस्था करनी चाहिए थी। किंतु उच्च अधिकारियों को भी लोगों की समस्याओं से कोई सरोकार नहीं हैlयही कारण है कि आज तक यहां पर डॉक्टर की व्यवस्था नहीं की गई है।

 

WhatsApp Image 2023 11 06 at 14.29.18

इन्होंने कहा…..

बरेला प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में डॉक्टर की व्यवस्था फिलहाल नहीं है लेकिन जल्दी दो-दो दिन के लिए डॉक्टरों की ड्यूटी लगाकर स्थिति को नियंत्रित किया जाएगा।

डॉ संजय मिश्रा सीएमएचओ

Rate this post

Yash Bharat

Editor With मीडिया के क्षेत्र में करीब 5 साल का अनुभव प्राप्त है। Yash Bharat न्यूज पेपर से करियर की शुरुआत की, जहां 1 साल कंटेंट राइटिंग और पेज डिजाइनिंग पर काम किया। यहां बिजनेस, ऑटो, नेशनल और इंटरटेनमेंट की खबरों पर काम कर रहे हैं।

Related Articles

Back to top button