जबलपुरमध्य प्रदेशराज्य

देशी शराब पर ओवर रेटिंग का तड़का: 60 का 80 में और 80 का 100 में खुलेआम बिक रहा देशी शराब का क्वार्टर

शराब माफियाओं ने अब देशी शराब पर साधा निशाना

जबलपुर,यशभारत। शराब माफिया से अपना सिंडीकेट बनाकर एमआरपी से अधिक रेट पर देशी शराब को बेचने का दस्तूर शुरू कर दिया है जो कि पिछले एक माह से लगातार जारी है। उधर जिला व आबकारी विभाग मूक बनकर बैठा हुआ है। शराब के शौकीन लोगों ने अपनी व्यथा सुनाते हुए बताया कि साहब.. शराब दुकान वाले देशी प्लेन का क्वार्टर 60 रुपए से 80 रुपए और लाल का क्वार्टर 80 रुपए से 100 रुपए में खुलेआम बेच रहे हैं। शौकीन लोग तो मंहगे दामों पर देशी शराब खरीद रहे हैं लेकिन शराब दुकानदारों को कोसते नजर आ रहे हैं। नाम न छापने की शर्त पर आबकारी विभाग के कर्मचारियों ने बताया कि विगत दिनों सरकार ने ही 6 प्रतिशत दाम बढ़ा दिए हैं इसलिए इसका फायदा ठेकेदार और उनका सिण्डीकेट उठा रहा है। कर्मचारियों की माने तो जैसा उनके साहब उन्हें आदेश करेंगे वो वैसा करेंगे। विदित हो कि देशी शराब की खपत ज्यादा है इसलिए अब शराब माफियाओं ने इसे टारगेट किया है।

3 दिन तक लायसेंस निलंबित करने का है प्रावधान
एमआरपी से अधिक रेट पर शराब बेचकर मुनाफाकोरी करना व्यावसायिक दृष्टिकोंण से सरासर गलत है और ये गैर कानूनी है इसलिए आबकारी अधिनियम के तहत अधिक रेट पर शराब बेचने वाले दुकान संचालकों की दुकानों का लायसेंस एक से 3 दिन तक निलंबित करने का प्रावधान बनाया गया है।

अभी तक एक भी ओवर रेटिंग का प्रकरण दर्ज नहीं
जानकारी के अनुसार जिले में 43 गुप में से 34 गु्रपों का ठेका हो चुका है जबकि 9 का नवीनीकरण बाकी है इनके टेंडर भी बुलाए गए हैं। शराब की ओवर रेटिंग का मामला उस समय से जोर-शोर से पनप रहा है जब से नवीनीकरण की प्रक्रिया शुरू हुई थी। अधिक कीमत पर शराब बेचने की शिकायत जब कलेक्टर, आयुक्त तक पहुंची तो निर्देश दिए गए कि जहां शिकायत आए वहां तत्काल कार्रवाई की जाएगी। लेकिन अभी तक सरकार रिकॉर्ड के अनुसार किसी भी शराब दुकान संचालक के खिलाफ ओवर रेटिंग का प्रकरण दर्ज नहीं किया गया है।

5/5 - (1 vote)

Yash Bharat

Editor With मीडिया के क्षेत्र में करीब 5 साल का अनुभव प्राप्त है। Yash Bharat न्यूज पेपर से करियर की शुरुआत की, जहां 1 साल कंटेंट राइटिंग और पेज डिजाइनिंग पर काम किया। यहां बिजनेस, ऑटो, नेशनल और इंटरटेनमेंट की खबरों पर काम कर रहे हैं।

Related Articles

Back to top button