जबलपुरमध्य प्रदेश

मंत्री प्रहलाद पटेल ने कहा- बच्चों की शिक्षा, दीक्षा व संस्कारों की चिंता करें, खाली विकास से काम नहीं चलेगा

नरसिंहपुर , यशभारत। पं.दीनदयाल उपाध्याय की पुण्यतिथि के अवसर पर प्रदेश के पंचायत एवं ग्रामीण विकास और श्रम मंत्री प्रहलाद सिंह पटेल ने गोटेगांव विकासखंड के ग्राम राखी-भैंसा में एकीकृत शासकीय हाई स्कूल भवन का भूमिपूजन किया।

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

इस मौके पर गोटेगांव विधायक महेन्द्र नागेश, पूर्व विधायक जालम सिंह पटैल, पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष महंत प्रीतमपुरी गोस्वामी अन्य विशिष्ट जनप्रतिनिधि और ग्रामीणजन मौजूद थे। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मंत्री श्री पटेल ने कहा कि स्व. नर्मदा प्रसाद दुबे, श्रीमती उमा शशि प्रसाद दुबे ने अपनी दो एकड़ जमीन स्कूल के लिए दान दी है।

राज्य सरकार ने लगभग पौने दो करोड़ रुपये की राशि से विद्यालय बनाने का फैसला किया है, जिसका आज भूमिपूजन है। मंत्री श्री पटेल ने कहा कि आज का दिन भी याद रहेगा कि पं. दीनदयाल उपाध्याय की पुण्यतिथि के दिन इस विद्यालय की आधारशिला रखी जा रही है। उन्होंने कहा कि वह जमीन ऐसे राष्ट्रपति पदक प्राप्त शिक्षक के द्वारा दान की गई, उस जमीन पर बैठकर, उस भवन में पढ़कर जो पीढ़ी निकलेगी वह अपने जीवन में सर्वोच्च मुकाम हासिल करेगी, ऐसा मेरा विश्वास है।

 

उन्होंने इसके लिए सभी को शुभकामनायें दी। मंत्री श्री पटेल ने कहा कि अपने बच्चों की शिक्षाए दीक्षा व संस्कारों की चिंता करें, खाली विकास से काम नहीं चलेगा विरासत के साथ विकास का काम होगा, तभी आने वाली पीढ़ी भी आपको याद रखेगी। उन्होंने स्व. नर्मदा प्रसाद दुबे को नमन किया। उन्होंने पं. दीनदयाल उपाध्याय के विचारों का भी उल्लेख किया। स्थानीय विधायक श्री नागेश ने भी इस अवसर पर संबोधित करते हुए विद्या के इस भवन के लिये बधाई दी।

 

उन्होंने शिक्षा के महत्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि बेहतर शिक्षा से बेहतर समाज का विकास होगा। पूर्व विधायक जालम सिंह पटेल ने शिक्षा भवन की शुभकामनायें देते हुए कहा कि यहाँ स्कूल नहीं था। शिक्षा के लिए यहाँ स्कूल बनाने के लिए दान पत्र दिया गया था।यह स्कूल स्व. नर्मदा प्रसाद दुबे, श्रीमती उमा शशि प्रसाद दुबे के नाम पर बनेगा। उनकी मूर्ति की भी स्थापना की जायेगी। बच्चों और युवाओं के लिए यह अनुकरणीय कार्य किया है। उन्होंने अपना सम्पूर्ण जीवन शिक्षा के लिए दिया है।

Rate this post

Related Articles

Back to top button