जबलपुरभोपालमध्य प्रदेश

MP में शादियां.. कलेक्टर लेंगे निर्णय:CM शिवराज ने कहा- यह आपातकाल है

भोपाल, यशभारत। मध्य प्रदेश में कोरोना के एक्टिव केसों की संख्या 82 हजार के पार हो चुकी है। इस बीच अप्रैल में अब 25 और 26 अप्रैल को शादियों के  शुभ मूहूर्त हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि यह आपातकाल है। वैवाहिक कार्यक्रम सीमित संख्या में घर में ही करें, लेकिन इसके लिए शासन-प्रशासन से अनुमति लें। शादियों के लिए अनुमति देने का अधिकार सरकार ने कलेक्टरों काे दिया है। वे क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप के साथ चर्चा के करके निर्णय लेंगे।

भोपाल और इंदौर में हर रोज 1600 से 1700 के बीच कोरोना केस आ रहे हैं। ऐसे में दोनों शहरों में 30 अप्रैल तक शादियों पर रोक लगाई गई है। 25 अप्रैल से आने वाले महीनों में शादियों के कई मुहूर्त हैं। कलेक्टर से अपील की है कि कोरोना संकट खत्म होने के बाद वो शादी के लिए नया मुहूर्त तय करें। कलेक्टर ने सभी एसडीएम को निर्देश दिया है कि वो शादी के लिए अनुमति नहीं दें।

अन्य राज्यों में सरकार ने लिया है निर्णय

छत्तीगढ़, उत्तर प्रदेश समेत अन्य राज्यों में शादियों की अनुमति को लेकर सरकार ने निर्णय लिया है। इसके लिए सरकार ने शर्तें तय की है, जबकि मध्य प्रदेश में कलेक्टरों पर निर्भर है कि वे वैवाहिक कार्यक्रमों की अनुमति दें या नहीं?

भोपाल में 50 लोगों की मिल रही थी अनुमति
अभी तक राजधानी में शादी समारोह में 50 लोगों के शामिल होने की अनुमति एसडीएम कार्यालय से मिल रही थी। सरकार ने वर- वधू पक्ष के 50 लोगों को शादी के लिए अनुमति दी थी, लेकिन अब बढ़ते संक्रमण के कारण प्रशासन ने शादियों पर पूरी तरह से रोक लगा दी है।

रायसेन में 15 लोगों से ज्यादा हुए तो होगी कार्रवाई
रायसेन में शादियों पर रोक नहीं है, लेकिन कार्यक्रम में 15 से ज्यादा लोग होने पर कार्रवाई की जाएगी। कलेक्टर ने कहा है कि शादी के दौरान 15 लोगों से ज्यादा नहीं होना चाहिए। साथ ही, सहभोज या ऐसा कार्यक्रम नहीं होना चाहिए, जिसमें भीड़ एकत्रित हो या कोरोना संक्रमण का बढ़ावा मिले। यदि ऐसा पाया जाता है, तो वर-वधु के परिजनों पर कार्रवाई की जाएगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button