जबलपुरभोपालमध्य प्रदेशराज्य

नर्सिंग आफिसर  के पास टीचिंग का अनुभव नहीं तो कैसे प्रोफसर के लिए नामांकित: फर्जी प्रमाण पत्र मामले में मेडिकल काॅलेज प्राचार्य से लेकर अधिकारियों की भूमिका संदिग्ध

फर्जी प्रमाण पत्र मामले में मेडिकल काॅलेज प्राचार्य से लेकर अधिकारियों की भूमिका संदिग्ध

8 2

जबलपुर, यशभारत। नेताजी सुभाषचंद्र बोस मेडिकल काॅलेज में टीचिंग अनुभव प्रमाण फर्जीवाड़े की परत दर परत खुलती जा रही है। इस मामले में मेडिकल काॅलेज प्राचार्य पर उंगली उठना शुरू हो गई है। सवाल किए जा रहे हैं कि जब नर्सिंग आफिसर के पास टीचिंग अनुभव प्रमाण पत्र नहीं था तो फिर उसका नाम प्रोफसर मंे नामांकित करने के लिए डीन कार्यालय कैसे भेजा गया । फर्जी तरीके से टीचिंग अनुभव प्रमाण पत्र बांटने मामले को लेकर मेडिकल काॅलेज प्राचार्य से लेकर अधिकारियों की भूमिका संदिग्ध नजर आ रही है। हालांकि डीन डाॅक्टर नवनीत सक्सेना ने इस मामले में बड़ी कार्रवाई करने का संकेत दिया है। मामले की जानकारी के लिए मेडिकल काॅलेज प्राचार्य स्टेला पीटर से दूरभाष में चर्चा करना चाही परंतु उनसे संपर्क नहीं हो सका।

नीचे से लेकर उपर तक के अधिकारी मिले
फर्जी टीचिंग अनुभव प्रमाण पत्र मामला जितना सीधा और सरल समझा जा रहा था उतना है नहीं। इस मामले में छोटे से लेकर बड़े अधिकारियों ने स्केम किया। अब गलती सामने आने के बाद यह पता लगाया जा रहा है कि फर्जीवाड़ा हुआ कहां से। सबसे खास बात ये है कि नर्सिंग आॅफिसर कीे टीचिंग अनुभव प्रमाण वाली जब सबके सामने आई तो अधिकारियों ने बयान सामने आने लगे, उनका कहना है कि नर्सिंग आॅफिसर को प्रमाण दिया ही नहीं गया है।

प्राचार्य को पूरी जानकारी फिर प्रोफसर के लिए नाम भेजा
नर्सिंग आॅफिसर के पास फर्जी टीचिंग अनुभव प्रमाण पत्र है इसकी जानकारी मेडिकल प्राचार्य को थी बाबजूद प्राचार्य ने नर्सिंग आॅफिसर का नाम प्रोफसर के लिए डीन कार्यालय भेज दिया। इससे साफ जाहिर होता है कि पूरी प्लानिंग करके नर्सिग आॅफिसर को लाभ पहंुचाया गया है।

WhatsApp Image 2024 06 10 at 12.31.45

एनएसयूआई ने किया विरोध प्रदर्शन, सौंपा ज्ञापन
फर्जी सर्टिफिकेट मामले को लेकर एनएसयूआई के राष्ट्रीय सचिव देवकी पटेल के नेतृत्व में सोमवार डीन डाॅक्टर नवनीत सक्सेना, अधीक्षक डाॅक्टर अरविंद शर्मा को ज्ञापन सौंपा गया है जिसमें कहा गया कि टीचिंग सर्टिफिकेट प्रदान कर अनुचित लाभ प्राप्त किया जा रहा है। हाल में ही यशभारत अखबार के माध्यम से ज्ञात हुआ की एक बाबू के द्वारा लंबे समय से महाविधालय एवं विश्वविधालय से संबंधित कॉलेज के नर्सिंग स्टाफ को बिना योग्यता एवं संबंधित प्राचार्य की अनुमोदन लिए बगैर धड़ल्ले से टीचिंग सर्टिफिकेट प्रदान किए जा रहे हैं तथा इस रैकेट में नर्स के द्वारा अन्य नर्सों के द्वारा सभी तरह के लेन देन कर रैकेट में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई जाती है। एनएससूआई ने पूरे प्रकरण में निष्पक्ष जांच की मांग रखी है। इस मौके पर शाहनवाज़ अंसारीएअदनान अंसारीए रीनाएसक्षम यादवएइमरान अब्बासएजमाल नियाज़ीएसुमित कुशवाहाएरियाज़ अली आदि मौजूद थे।

इनका कहना है
पूरे प्रकरण में जांच शुरू हो गई है, जिन्होंने गलत किया है निश्चित रूप से उन पर कार्रवाई की जाएगी। इस तरह का कृत्य बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।
डाॅक्टर नवनीत सक्सेना, डीन नेताजी सुभाषचंद्र बोस मेडिकल

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button