मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव की तैयारियों में जुटी कांग्रेस अंदरुनी चुनौतियों से भी जूझ रही है। पार्टी की तरफ से मुख्यमंत्री के चेहरे को लेकर दो सीनियर लीडर आमने-सामने आ गए हैं। पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने शनिवार को कहा कि कमलनाथ ही पार्टी का सीएम चेहरा होंगे। उनके नेतृत्व में ही चुनाव लड़ा जाएगा। वर्मा ने ये बात नेता प्रतिपक्ष डॉ. गोविंद सिंह के उस बयान पर प्रतिक्रिया में कही, जिसमें उन्होंने कहा था कि ‘CM का चेहरा चुनाव हार जाए, तब क्या होगा’?

सज्जन बोले- मुख्यमंत्री के चेहरे पर चर्चा नहीं होगी

पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने शनिवार को पीसीसी में मीडिया से चर्चा की। उन्होंने कहा- डॉ. गोविंद सिंह जी नेता प्रतिपक्ष बने हैं। क्या विधायकों ने उन्हें चुना? आप वरिष्ठ थे, तो आपको बना दिया। इसी तरह, कमलनाथ जी के नाम पर प्रदेश में कांग्रेस का वोट बढ़ेगा। उन्होंने 15 महीने की सरकार में जिस तरह से काम किए थे, वे लोगों के लिए प्रेरणा हैं। अब गोविंद सिंह जी को जो कहना है, वे कहें। समाजवादी विचारधारा तो ये है कि अपने लिए आप जो व्यवहार चाहते हैं, वो दूसरे के लिए करना पड़ेगा। सभी वरिष्ठ नेता, जिसमें मैं और गोविंद सिंह भी मौजूद थे..22 नेताओं की बैठक में कहा गया था कि मुख्यमंत्री के चेहरे पर चर्चा नहीं होगी। हमारे नेता कमलनाथ जी हैं। उनके नेतृत्व में ही चुनाव लड़ेंगे। ये क्लिपिंग है, ऑन रिकॉर्ड है।

गोविंद ने कहा था- चुने हुए प्रतिनिधि निर्णय लेंगे

नेता प्रतिपक्ष डॉ. गोविंद सिंह ने शुक्रवार को कहा था- पहले से सीएम का चेहरा घोषित कर दो। वो चुनाव हार जाए, तो सीएम का फेस कैसे बनेगा? जब चुनकर आ जाते हैं, तो जिसे एमएलए चाहते हैं, जिसे पब्लिक चाहती है, वो बनता है। हमने कह दिया कि ये व्यक्ति सीएम फेस है। वो चुनाव हार गया, फिर क्या होगा? इसलिए कांग्रेस में ये पद्धति नहीं होती। प्रजातांत्रिक पार्टी है। प्रजातंत्र में जनता के चुने हुए प्रतिनिधि निर्णय लेंगे।

नेता प्रतिपक्ष सिंह ने कहा था- चुने हुए प्रतिनिधि ही सीएम फेस पर निर्णय लेंगे।
नेता प्रतिपक्ष सिंह ने कहा था- चुने हुए प्रतिनिधि ही सीएम फेस पर निर्णय लेंगे।

बीजेपी का तंज- क्या समस्या बन रहे नेता प्रतिपक्ष

कांग्रेस के दो सीनियर नेताओं के बीच इस बयानबाजी पर बीजेपी ने तंज कसा है। बीजेपी नेता डॉ. हितेश वाजपेयी ने ट्वीट कर कहा- क्या गोविंद सिंह कांग्रेस के लिए समस्या बन गए हैं? क्या अब गोविंद सिंह अपने 11 विधायकों के साथ करेंगे कमलनाथ से किनारा? खुद सुनिए ‘सज्जन के दुर्जन’ बोल, बुजुर्ग नेता गोविंद सिंह के लिए।

बीजेपी नेता नेहा बग्गा ने कहा- देश के सबसे पुराने दल कांग्रेस को देखकर दया आती है। सज्जन सिंह वर्मा बता रहे हैं कि गोविंद सिंह की उम्र को देखकर उन्हें नेता प्रतिपक्ष बनाया गया है। इसका मतलब यह है कि गोविंद सिंह जी की न तो कोई उपयोगिता है और न ही टैलेंट और अनुभव है। वे दया के पात्र हैं, इसलिए उन्हें नेता प्रतिपक्ष बना दिया गया।

दिल्ली में बैठक के बाद राहुल टाल गए थे सवाल

29 मई को दिल्ली में कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे, राहुल गांधी और केसी वेणुगोपाल की मध्यप्रदेश के कांग्रेस नेताओं के साथ बैठक हुई थी। इस बैठक के बाद मीडिया ने जब राहुल गांधी से पूछा कि MP में सीएम का फेस क्या कमलनाथ ही होंगे ? इसके जवाब में राहुल गांधी ये कहकर चले गए थे कि मप्र में हमारी 150 सीटें आ रही हैं। सीएम के चेहरे के सवाल पर राहुल का सीधा जवाब न मिलने के बाद से ही बीजेपी सवाल उठा रही है।

कांग्रेस ने चलाया था ‘नया साल, नई सरकार’ कैम्पेन
इस साल की शुरुआत यानि जनवरी में कांग्रेस ने एक कैम्पेन की शुरुआत की थी। इसके तहत प्रदेशभर में कांग्रेस ने ‘नया साल, नई सरकार’ का नारा लिखकर बैनर और होर्डिंग लगाए थे। खास बात यह है कि इन सभी होर्डिंग और पोस्टरों में कमलनाथ को भावी मुख्यमंत्री लिखा गया था।

Rate this post

Yash Bharat

Editor With मीडिया के क्षेत्र में करीब 5 साल का अनुभव प्राप्त है। Yash Bharat न्यूज पेपर से करियर की शुरुआत की, जहां 1 साल कंटेंट राइटिंग और पेज डिजाइनिंग पर काम किया। यहां बिजनेस, ऑटो, नेशनल और इंटरटेनमेंट की खबरों पर काम कर रहे हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button