Uncategorized

CM के निर्देश – जीवन रक्षक दवा की कालाबाजारी करने वालों पर रासुका लगाएं

हमीदिया केस में स्टोर प्रभारी सहित 4 कर्मचारियों को हटा दिया है

यशभारत, भोपाल। कोरोना के कोहराम के बीच रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी हो रही है। यह इंजेक्शन 20-20 हजार रुपए में खरीदने के लिए मजबूर हैं। इसी बीच सरकार सख्त होती दिखाई दे रही है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने निर्देश दिए हैं कि जीवन रक्षक दवा की कालाबाजारी करने वालों पर रासुका लगाएं। इस बीच सरकार ने हमीदिया केस में स्टोर प्रभारी सहित 4 कर्मचारियों को हटा दिया है।

सरकार का दावा है कि 1 लाख 36 हजार रेमडेसिविर इंजेक्शन की आपूर्ति की जा चुकी है। इसके बाद भी करीब 50 हजार डोज आने वाले दिनों में अस्पतालों को उपलब्ध कराए जाएंगे, लेकिन इंदौर, भोपाल, सतना सहित अन्य जिलों में अब भी रेमडेसिविर इंजेक्शन कई गुना दामों में बेचने के मामले सामने आ रहे हैं। यही वजह है कि मुख्यमंत्री ने अब इंजेक्शन की कालाबाजारी करने वालों के खिलाफ रासुका (राष्ट्रीय सुरक्षा कानून) के तहत जेल भेजने के निर्देश दिए।

भोपाल के हमीदिया अस्पताल में रेमडेसिविर इंजेक्शन चोरी होने के मामले में क्राइम ब्रांच की पूछताछ के बाद अब उन अधिकारियों पर गाज गिरना शुरू हो गई है, जो इस पूरे इंजेक्शन कांड में शामिल हैं। हमीदिया अस्पताल के अधीक्षक चौरसिया को हटाए जाने के बाद अब सेंट्रल ड्रग स्टोर प्रभारी डॉ. संजीव जयंत को हटाया गया है। इसी तरह जांच के दायरे में आए तीन कर्मचारी आरपी कैथल, तुलसीराम पाटनकर और अलकेंद्र दुबे को हटाया गया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button