कटनीजबलपुरमध्य प्रदेश

सुसाइड नोट लिखकर फांसी पर झूल गया रेलवे का लोको पायलट : 7 लोगों को ठहराया मौत का जिम्मेदार, सूदखोरों से था परेशान 

20 प्रतिशत ब्याज पर देते थे कर्ज, कर्ज के लिए बाइक भी छीनी 

 

कटनी, यशभारत। पुलिस कह रही है कि जिले में कहीं भी आईपीएल का सट्टा नहीं चल रहा है लेकिन हकीकत यह है कि शहर से लेकर गांव तक इसका जाल फैला हुआ है और युवा पीढ़ी इसकी गिरफ्त में आकर कर्ज के बोझ तले दबती जा रही है। इस तरह के मामले सामने आने के बाद पुलिस सांठगांठ से इस तरह के मामलों को दबाने का काम कर रही है, जिसकी परिणिति यह हुई कि कर्ज से परेशान होकर एनकेजे में एक रेलवे लोको पायलट ने आत्महत्या कर ली। आत्महत्या करने के पहले लोको पायलट ने सुसाइड नोट भी लिखा है, जिसमे उसने अपनी मौत के लिए सात लोगों को जिम्मेदार ठहराया है।

 

सुसाइड नोट में उनके नाम और मोबाइल नंबर का भी उल्लेख किया है। सूत्रों से प्राप्त जानकारी के मुताबिक एनकेजे थाना क्षेत्र के अंतर्गत रोशन नगर निवासी 36 वर्षीय रेलवे लोको पायलट अमित कुमार बर्मन ने रविवार की देर रात अपने ही घर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। आत्महत्या का जो कारण सामने आया है, वो चौंकाने वाला है। रेलवे लोको पायलट अमित कुमार बर्मन ने एनकेजे के 7 लोगों से कुछ रूपए कर्ज के तौर 20 प्रतिशत ब्याज पर लिए थे। बताया जाता है कि मूल रकम सहित ब्याज की राशि भी चुका दी गई थी, इसके बाद भी लोको पायलट को परेशान किया जा रहा था। उसकी बाइक छीन ली गई थी। उसे परेशान किया जा रहा था, जिससे तंग आकर उसने कल शाम करीब 4-5 बजे अपने घर पर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। परिजनों को थोड़ी देर बार इसकी जानकारी लगी। सूचना मिलने पर एनकेजे पुलिस मौके पर पहुंची और लाश को बरामद कर पोस्टमार्टम के लिए जिला चिकित्सालय भिजवाया।

सुसाइड नोट में इन्हें ठहराया मौत का जिम्मेदार

रेल कर्मचारी ने आत्महत्या करने से एक सुसाइड नोट भी लिखा है। जिसमे उसने अपनी मौत का जिम्मेदार अमित नायक, नवीन गर्ग, शिवांश जायसवाल, अभिषेक गौतम, रूपेश, राकेश तिवारी और पासू अन्ना को ठहराया है। सुसाइड नोट में उसने लिखा है कि ये सभी लोग 15 से 20 प्रतिशत से रूपए दिय हैं और सबूत के तौर पर नोटरी करवाए हैं और ऑनलाइन ट्रांजक्शन की हिस्ट्री सबूत के तौर पर रखे हैंं। एग्जाम्पल के लिए अगर मैने किसी से 20 हजार रूपए उधार मांगे तो 50 हजार रूपए एकाउंट में सेंड करके हिस्ट्री बनाते हैं और उसमे से 30 हजार रूपए केस ले लेते हैं। नहीं पटाने पर केस 50 हजार का बनवाएंगे। ऐसा बोल कर डराते हैं। इन सभी के द्वारा मेरे को मेंटल प्रेशर दिया गया, जिसके कारण में अपनी जान दे रहा हंू। मेरी प्रशासन से बिनती है कि मुझे न्याय दिलवाएं और मेरी फेमिली में से किसी ओर की जान नहीं जाए, क्योंकि ये लोग मेरे बाद मेरी फेमिली को जरूर डराएंगे, धमकाएंगे। मेरी मौत के लिए मेरे घर वाले, मेरी मम्मी, मेरा भाई, मेरी वाइफ कोई जिम्मेदार नहीं है।

भाई ने लगाया मारपीट व प्रताडि़त करने का आरोप

मीडिया से बात करते हुए मृतक लोको पायलट अमित कुमार बर्मन के भाई सुमित बर्मन ने आरोप लगाते हुए बताया कि करीब एक महीने पहले उसने अपना घर गिरवी रखते हुए 5 लाख रूपए का कर्ज ब्याज सहित चुकाया था, इसके बाद भी उसके भाई को जबरन परेशान किया जा रहा था। उसके साथ मारपीट भी की गई थी। उसे मानसिक रूप से परेशान किया जा रहा था। इसी से परेशान होकर उसने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। उसकी जेब से एक सुसाइड नोट भी मिला है, जिसमे उसने परेशान करने वाले लोगों के नाम भी लिखे हैं। भाई ने अपनी मौत के लिए सीधे तौर पर सात लोगों को जिम्मेदार ठहराया है।

आईपीएल सट्टेबाज और सूदखोर करते थे परेशान

सूत्र बताते हैं कि लोको पायलट अमित कुमार बर्मन आईपीएल सट्टेबाजों और कर्जदारों से परेशान था। बताया जाता है कि अमित सुसाइड नोट में लिखे गए सात लोगों के जरिए ही आईपीएल का सट्टा खेलता था और उनसे रुपए भी उधार लेता था। इन्हीं लोगों के द्वारा सट्टेबाजी और सूदखोरी का पैसा वसूल करने के लिए उसे यातनाएं दी जा रही थी। मानसिक रूप से परेशान होने के बाद आखिरकार अमित ने मौत को गले लगा लिया।

Yash Bharat

Editor With मीडिया के क्षेत्र में करीब 5 साल का अनुभव प्राप्त है। Yash Bharat न्यूज पेपर से करियर की शुरुआत की, जहां 1 साल कंटेंट राइटिंग और पेज डिजाइनिंग पर काम किया। यहां बिजनेस, ऑटो, नेशनल और इंटरटेनमेंट की खबरों पर काम कर रहे हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button