जबलपुरमध्य प्रदेश

सीसी रोड में फर्जीवाड़ा: 4 लाख की सड़क बनाई बिल लगा दिया 4 लाख 25 हजार 100 का

शहपुरा की ग्राम पंचायत देवरी पुरानी में सामने आया मामला

जबलपुर। ग्राम पंचायतों में फर्जीवाड़े रूकने का नाम नहीं ले रहा है। सीसी रोड हो या फिर मनरेगा के कामों में भ्रष्टाचार की बात हो सभी में सरपंच-सचिव मिलकर भ्रष्टाचार करते हैं। ताजा मामला शहपुरा जनपद की ग्राम पंचायत देवरी पुरानी का है जहां पर सीसी रोड निर्माण में गड़बड़ी सामने आई है। सड़क निर्माण की लागत 4 लाख थी परंतु सरपंच-सचिव ने 4 लाख 25 हजार 100 रूपए का बिल लगा दिया है। यह गड़बड़ी उस वक्त सामने आई जब मामला जिला पंचायत तक पहुंचा। इधर सरपंच का कहना है कि सीसी रोड का पैसा सिर्फ 2 लाख मिला है इसलिए में गड़बड़ी होने का सवाल नहीं उठता है।


2018 में बनाई गई सड़क का आज सूबत तक नहीं
बताया जा रहा है कि देवरी पुरानी में सीसी रोड निर्माण कार्य स्वीकृत 2018 में हुआ और इसी साल सड़क निर्माण का पूरा हुआ। हैरानी की बात तो यह है कि सड़क का आज नामों निशान नहीं है। सड़क निर्माण में गुणवत्ताहीन सामग्री का उपयोग कर लाखों रूपए जिम्मेदारों ने अंदर कर लिए।

सड़क का मूल्यांकन तक नहीं हुआ
सरपंच-सचिव और अन्य लोगों ने सड़क निर्माण में किस तरह से भ्रष्टाचार किया है इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि अभी तक इंजीनियर द्वारा सड़क का मूल्यांकन नहीं किया गया है। गौर करने वाली बात है कि जिस सड़क का मूल्यांकन नहीं हुआ उसकी सीसी जारी कर दी गई साथ ही पहली किस्त 2 लाख रूपए भी जारी कर दिए गए।

पंचायत से लेकर जनपद तक में फर्जीवाड़ा
सूत्रों का कहना है कि शहपुरा जनपद की ग्राम पंचायतों में जनपद के अधिकारियों के इशारों में फर्जीवाड़े को अंजाम दिया जाता है। कार्यालय के एक प्रमुख अधिकारी द्वारा एक सचिव की तैनाती फर्जीवाड़े की रकम वसूलने के लिए लगाई गई है। ऐसे बहुत से मामले है जिसमें जनपद के द्वारा आज तक कार्रवाई नहीं की गई है।

इन ट्रेडर्स के नाम पर लगाए गए बिल
-पटेल ट्रेडर्स 50 हजार रूपए
– सिद्वार्थ पहला बिल 1 लाख 10 हजार और दूसरा बिल 90 हजार का
– शाश्वत- पहला बिल 25 हजार का और दूसरा बिल 1 लाख 10 हजार
– रामेश्वर उपाध्याय – 40 हजार 100 रूपए का

इनका कहना है
देवरी पुरानी में अधिकांश निर्माण में गड़बड़ी है, कहीं ज्यादा राशि निकाल ली गई है तो कहीं काम ढंग से नहीं हुआ है। इस सड़क का मूल्यांकन अभी नहीं किया गया, सचिव के साथ जाकर देखूंगी कि सड़क निर्माण कैसा हुआ है।
प्रीति तिवारी, इंजीनियर

 

 

सड़क निर्माण की राशि अभी पूरी नहीं मिली है बिल कितने का लगा है इसकी जानकारी नहीं है। पंचायत में जितने भी काम हुए हैं उसमें अधिकांश की राशि रूकी हुई है। जब पैसा ही नहीं मिला है तो भ्रष्टाचार होने का सवाल ही नहीं उठता है।
लीलाधर गौंड, सरपंच देवरी पुरानी

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button