उत्तर प्रदेशराज्य

सील लाशों के प्रमाणपत्र देखने के बाद कर रहे अंतिम संस्कार 

 प्रयागराज 
यूपी के प्रयागराज में रसूलाबाद श्मशान घाटों पर आने वाली सील लाशों का अब प्रमाणपत्र देखा जा रहा है। प्रमाणपत्र कोरोना निगेटिव होने पर अंतिम संस्कार करने की इजाजत दी जा रही है। कोरोना पॉजिटिव होने पर लाश फाफामऊ घाट भेज रहे हैं। घाट के आसपास मोहल्लों को कोरोना संक्रमण से बचाने के लिए अंतिम संस्कार कराने वाली संस्था महराजिन बुआ समिति ने व्यवस्था बनाई है। घाट पर आने वाली हर लाश पर समिति के सदस्यों की नजर है। सील लाशों का प्रमाणपत्र नहीं दिखाते तो कसम देकर परिजनों से पॉजिटिव और निगेटिव रिपोर्ट की जानकारी लेते हैं।  समिति के संचालक जगदीश त्रिपाठी ने बताया कि घाट पर अंतिम संस्कार कराने वालों को बचाने के लिए सेनिटाइजर, मास्क आदि की व्यवस्था की गई है। 

 पिछले साल कोरोनाकाल में लगाए गए स्पीकर से सोशल डिस्र्टेंंसग के लिए लगातार घोषणा की जा रही है। लोगों से भीड़ कम करने का लगातार आग्रह किया जा रहा है। जगदीश के अनुसार कोरोना के मद्देनजर श्मशान घाट बहुत ही संवेदनशील जगह है। यहां संक्रमण तेजी से फैल सकता है। अबतक एक दर्जन सील लाशें फाफामऊ भेजी जा चुकी हैं। खुद को बचाने के साथ अंतिम संस्कार के दौरान उठते धुएं से घाट के आसपास रहने वाले हजारों परिवारों को बचाने के लिए ये व्यवस्थाएं की गई हैं।

मुक्तिधाम के अंतिम पड़ाव में हर मदद 
संकट के समय रसूलाबाद घाट पर गरीबों को अंतिम संस्कार में हर मदद की जा रही है। महराजिन बुआ सेवा समिति की ओर से गरीबों के अंतिम संस्कार में लकड़ी व अन्य पूजन सामग्री मुहैया कराई जाती है। समिति के संचालक जगदीश त्रिपाठी ने बताया कि मदद से पहले पूरी जांच कर ली जाती है। 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button