बिहारराज्य

शराब के नशे में दिल्ली से पटना तक दो भाइयों को पीटता रहा चालक 

पटना                                                                                                                      
दिल्ली से सुपौल जा रहे मधेपुरा के रहने वाले दो छात्रों चंदन कुमार और कुंदन कुमार को शराब के नशे में चालक पीटता रहा। बाद में दोनों सहोदर भाइयों को चालक पटना के मीठापुर बस स्टैंड पर कृष्णा रथ बस के दफ्तर में ले आया, जहां दोनों को बंधक बना लिया गया। दिल्ली के मुखर्जी नगर में रहकर यूपीएससी की तैयारी करने वाले दोनों भाई मधेपुरा जिले के सिंघेश्वर प्रखंड के रहने वाले हैं। इधर, छात्रों के बंधक बनाने की खबर मिलते ही आननफानन में जक्कनपुर के थानेदार मुकेश वर्मा मौके पर पहुंचे और उन्हें वहां से छुड़ा लिया। इसके साथ ही पुलिस ने मारपीट करने वाले आरोपित चालक को गिरफ्तार कर लिया। जिस वक्त जक्कनपुर थाने की पुलिस दोनों छात्रों को छुड़ाने गई थी, उस समय कृष्णा रथ के कुछ कर्मियों ने जवानों को रोकने की कोशिश की। हालांकि पुलिस ने बंधक बने छात्रों को वहां से छुड़ा लिया।

ढाबे में बैठकर चालक ने पी शराब 
दरअसल, बीते शनिवार को दोनों भाई चंदन और कुंदन दिल्ली से सुपौल के लिए कृष्णा रथ बस में सवार हुए थे। बस चालक ने उन्हें रविवार दोपहर तीन बजे सुपौल पहुंचाने को कहा था। लेकिन बस का रूट अचानक चेंज हो गया। बस पटना की ओर आने लगी। काफी देर तक उसमें सवार रहने के कारण कुंदन को प्यास लग गई और उसने चालक से बस रोकने को कहा। इस पर चालक ने बस रोकने से इनकार कर दिया। कई घंटों तक सड़क पर रफ्तार भरने के बाद भी चालक ने बस नहीं रोका तो चंदन ने चालक से दोबारा अनुरोध किया। इस पर बस का चालक उलझ गया। 

आरोप है कि थोड़ी देर बाद बस ढाबे पर रुकी, जहां चालक ने शराब पीकर नशे में धुत होने के बाद चंदन और कुंदन की जमकर धुनाई की। चालक पटना पहुंचने के बाद अंजाम भुगतने की धमकी दे रहा था। इससे सहमे चंदन और कुंदन पटना बस स्टैंड पर पहुंचने से पहले ही बस से उतरने की कोशिश करने लगे। लेकिन चालक दोनों को मीठापुर बस स्टैंड ले आया। इसके बाद दोनों को कृष्णा रथ के दफ्तर में बंधक बनाकर रखा गया। आरोप है कि कृष्णा रथ की मालकिन और चालक दोनों छात्रों से 15 हजार रुपये की मांग कर रहे थे। हालांकि किसी तरह यह बात जक्कनपुर के थानेदार  तक पहुंच गई।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button