जबलपुरभोपालमध्य प्रदेशराज्य

विधायक ने विधानसभा में उठाया मुद्दा :  जिले के घुनई बंजारी घाट में हो रहे सबसे अधिक हादसे :  2 दर्जन से अधिक दुर्घटनाओं में 10 की हो चुकी है मौत

सिवनी यश भारत- जिले के घुनई बंजारी घाट में सर्वाधिक दुर्घटनाएं हो रही है। जांच बीते 3 वर्षों में 2 दर्जन से अधिक दुर्घटनाएं हुई। जिनमे लगभग 10 लोगो की मृत्यु हुई है। नेशनल हाइवे में जबलपुर-नागपुर के बीच फोरलेन में छपारा के पास स्थित चुनई और बंजारी घाट दुघर्टनाओं का केंद्र बन गया है। साल 2021 से 2023 तक तीन साल में दोनों स्थानों पर 23 सड़क हादसों में 10 लोगों की मौत हो गई है।

 

फोरलेन बनने के बाद से यहां सड़क हादसे लगातार घटित हो रहे हैं। 9.24 किलोमीटर के इस हिस्से का निर्माण साल 2018 में हुआ था।घुनई और बंजारी घाट के खतरनाक मोड़ और गड्‌डे दुर्घटना का कारण बन रहे हैं। वन भूमि के पहाड़ काटकर बनाया गया फोरलेन निर्माण के बाद से दुर्दशा का शिकार है। स्थिति या है कि सड़क मरम्मत व पेचवर्क के लिए गहां पर पेवर ब्लाक तक लगा दिए गए। पेच वर्क से असमतल सड़क में दौड़ने वाले तेज रफ्तार दर्जनों वाहन अनियंत्रित होकर दुघर्टना का शिकार हो चुके है। सड़क में खामियों को लेकर सिवनी विधायक दिनेश राय मुनमुन ने मध्यप्रदेश विधानसभा सत्र में यह मुद्दा उठाया है।

 

9.24 किलोमीटर का हुआ था काम:-

राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक 7 पर वन एवं पर्यावरण विभाग की अनुमति के कारण हपारा से गणेशगंज के बीच लगे हुए 9.24 किलोमीटर हिस्से का निर्माण 63 करोड़ से साल 2018 में एनएचएआई ने कराया था। निर्माण के कुछ ही महीनों के बाद सड़क खराब होने के साथ इसमें दुघर्टनाओं का सिलसिला शुरू ही गया। जानकारों के अनुसार घुनई घाटी में एस आकर का खतरनाक घुमाव व ढलान है जिसके कारण लोग दुर्घटना का शिकार हो जाते हैं।

 

सिवनी विधायक ने विधानसभा में उठाया मुद्दा:-

भाजपा विधायक दिनेश राय ने यह मुद्दा विधानसभा में उठाया है। हालाकि लोक निर्माण मंत्री राकेश सिंह ने विधानसभा सत्र में उठाए गए सवालों का जवाब विधायक दिनेश राय को दे दिया है। पीडब्ल्यूडी मंत्री राकेश सिंह ने छपारा फोरलेन के 9.24 किमी में हो रही दुघर्टनाओं से जुड़े सवाल का जवाब देते हुए कहा कि यह सड़क एनएचएआई के अंतर्गत है। एनएचएआई ने आईआरसी मानक अनुसार फोरलेन का निर्माण कराया है। सड़क में दरारें नहीं पड़ीं है। मार्ग में हुए गड्ढों का पेच रिपेयर कराया गया है। मार्ग असमतल नहीं है, दुघर्टनाएं होने का कारण बजारी व घुनई घाटी का ब्लैक स्पष्ट है।सड़क व परिवहन मंत्रालय भारत सरकार द्वारा इसे चिह्नित किया गया है। इन स्थानों पर जन-धन की हानि रोकने ब्लैक स्याट के दीर्घ कालीन सुधार कार्य हेतु कार्य आदेश 6 जनवरी 2024 की जारी कर दिया गया है। वर्तमान में सुधार कार्य प्रगतिरत है। साथ ही 9.24 किमी मार्ग में मेजर मरम्मत कार्य हेतु 16 मार्च को एक अन्य कार्य आदेश जारी किया गया है।सड़क पर गिरने वाले पत्थरों को रोकने आवश्यक कदम उठाए जा रहे हैं।

 

जानकारी के अनुसार छपारा बंजारी माता मंदिर घाट के आधा किलोमीटर की फोरलेन सड़क में साल 2021 से 2023 तक तीन सालों में 10 सड़क हादसों में पांच लोगों की मौत हो चुकी है। 2021 में 3 हादसे हुए, 2022 में कार हादसों में 4 लोगों की मौत हुई जबकि साल 2023 में 3 दुघर्टना में एक व्यक्ति को जान गवानी पड़ी। इसी तरह घुनई घाटी में तीन साल में 13 सड़क दुघर्टनाओं में 5 लोगों की मौत हुई है। साल 2021 में 2, 2022 में 10 और 2023 में 1 सड़क दुघर्टना सामने आई है।

इस मामले में सिवनी विधायक दिनेश राय मुनमुन ने बताया कि वर्ष 2019 में भी यह मुद्दा उठाया गया था।जिसे राष्ट्रीय राज्यमार्ग का बताकर दबा दिया गया था।यहां लगातार दुर्घटनायें हो रही है।सड़क की स्थिति आज भी खराब है। पीडब्ल्यूडी अंतर्गत 100 करोड़ के काम अभी मेरी विधानसभा में चल रहा है।इन कामो की जांच कराने मेरे द्वारा सरकार से कहा गया है।सरकार ने जांच कराकर कार्यवाही का आश्वासन दिया है।

Rate this post

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button