जबलपुरमध्य प्रदेश

रस्सी से गला घोंटकर की हत्या फिर आरा मशीन के हैंड कटर से लाश के कर दिए कई टुकड़े

लाखों रुपए के लेनदेन और चरित्र संदेह के कारण करीबी मित्र ने दिया वारदात को अंजाम, किराएदार के साथ मिलकर दोस्त ने रची थी हत्या की साजिश, 2 माह पहले जसूजा सिटी स्थित घर से गायब हुआ था अनुपम

 

जबलपुर। लाखों रुपए के लेन-देन और चरित्र संदेह के चलते अपने किराएदार की मदद से करीबी मित्र ने जसूजा सिटी निवासी अनुपम शर्मा की लकड़ी के टाल में गला घोंटकर हत्या की गई और फिर आरा मशीन की हैंड कटर से अनुपम की लाश के टुकड़ों को बोरे में भरकर 90 क्वार्टर भूलन स्थित नाले में फेंक दिया गया था।
हत्या की जांच कर रही पुलिस द्वारा गिरफ्तार होने के डर से विगत फरवरी माह में अनुपम के करीबी मित्र विनोद वर्मा उर्फ टोनी ने विगत 1 मार्च 23 को अपने घर पर आत्महत्या कर ली थी। आत्महत्या के पहले टोनी ने सुसाइड नोट लिखा था जिसमें स्पष्ट लिखा था कि उससे बहुत बड़ी गलती हो गई है। हत्या के बाद आरोपियों ने साक्ष्य छिपाने का बहुत प्रयास किया। जिसके बाद पुलिस ने किराएदार रामप्रकाश पुनिया को गिरफ्तार कर लिया। इस बात का खुलासा सोमवार को पुलिस कंट्रोल रूम में एसपी टीके विद्यार्थी ने किया।

परिजनों के साथ ढ़ूढने का करता रहा नाटक
एसपी ने यह भी बताया कि हत्या करने के बाद टोनी मृतक के परिजनों और पुलिस के संपर्क में रहकर अनुपम की तलाश करने का नाटक करता रहा। जांच में सामने आया कि अनुपम ने लाखों रुपए टोनी के माध्यम से लोगों को उधार दे रखे थे जिसकी वसूली के लिए वह टोनी पर लगातार दवाब बनाया हुआ था। इसके साथ ही टोनी की अनुपस्थिति में अनुपम के घर आने से, टोनी उसके चरित्र को देकर संदेह भी करता रहा।
16 फरवरी को हुआ था घर से गायब
पत्रकारवार्ता के एसपी टीके विद्यार्थी ने बताया कि विगत 16 फरवरी 2023 को जसूजा सिटी निवासी अनुपम शर्मा 45 वर्ष अपने घर से गायब हुआ था जिसके परिजनों ने संजीवनी नगर पुलिस थाना में गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। गत दिवस पुलिस को अनुपम की टुकड़ों में लाश 90 क्वार्टर भूलन बोरे में मिली थी जिसके बाद पुलिस ने क्राइम ब्रांच की टीम के साथ मिलकर जांच शुरू की थी। जांच में पता चला कि मृतक अनुपम आखिरी बार अपने करीबी मित्र विनोद वर्मा उर्फ टोनी के साथ देखा गया है। जिसके बाद पुलिस ने टोनी से पूछताछ करनी शुरू कर दी। टोनी ने पुलिस को बहुत गुमराह किया। जांच में पुलिस को अनुपम की स्कूटर जबलपुर रेलवे स्टेशन की पार्किंग में मिली। साथ ही पुलिस को पता चला कि कोई करीबी मित्र ने दगाबाजी करके अनुपम को मरवाना चाहता है।

पिता को गुमराह करने भेजे मोबाइल पर मैसेज
पुलिस को गुमराह करने के लिए साजिशकर्ताओं ने अनुपम के मोबाइल से उसके पिता को व्हॉट्सएप मैसेज किया जिसमें लिखा था कि मैं जीवन में की गई गलतियों के सुधार के लिये अध्यात्म के रास्ते पर चलने आश्रम आ गया हंू। मौन व्रत रखने से अब आगे संपर्क नहीं रख पाउंगा। इसके बाद विगत 25 फरवरी को अनुपम के मोबाइल नंबर से कुछ इसी तरह का मैसेज नासिक से जबलपुर भेजा गया। वारदात में कडिय़ों जोड़ते हुईं क्राइम ब्रांच ने जांच आगे बढ़ाई।
रुपयों का निपटारा करने के बहाने बुलाया था लकड़ी के टाल
आरोपी रामप्रकाश पुनिया से की गयी । सघन पूछताछ पर पाया गया कि रामप्रकाश के मकान मालिक विनोद वर्मा उर्फ टोनी ने अपने मित्र अनुपम शर्मा को मारने के लिये राजी किया था । कोई निश्चित आय का साधन न होने से , किराया न दे पाने व उधार ली रकम वापस न कर पाने से रामप्रकाश पुनिया सहमत हुआ था। तय योजना के अनुसार विगत 16 फरवरी को अनुपम को टोनी ने रुपयों के लेनदेन का निपटारा करने के लिए उसके भाईयों की लकड़ी की टाल में बुलाया जहां पहले से ही रामप्रकाश पुनिया छिपा हुआ था। जैसे ही अनुपम लकड़ी की टाल में आया वैसे ही रामप्रकाश ने अनुपम के गले में रस्सी डालकर उसका गला घोंट दिया। इस दौरान टोनी अनुपम का पैर पकड़ा रहा। गला घोंटने के बाद हुई हत्या के बाद टोनी, रामप्रकाश ने लकड़ी काटने वाली आरा मशीन के हैंड कटर से अनुपम के शरीर के कई टुकड़े किए और पॉलिथिन में पैक करने के बाद प्लास्टिक की 3 बोरियों में लाश को भरकर रामप्रकाश के जरिए संजीवनी नगर के पास नाले में फिकवा दिया था। जब बोरियां पानी में नहीं डूब रही थी तो रामप्रकाश ने लोहा बांधकर लाश की बोरी में नाले में डुबो दिया था। हत्या के बाद मृतक अनुपम के कपड़े टोनी ने रामप्रकाश को पहनवाए और उससे कहा कि तुम अनुमम की गाड़ी लेकर उसके घर तरफ जाओ जिससे लोगों को लगे कि अनुपम ही गाड़ी चला रहा है।
सीसी कैमरे के फुटेज से बढ़ा संदेह
क्राइम ब्रांच की टीमों ने टोनी के घर और लकड़ी की टाल के आसपास रहने वालों से सघन पूछताछ की और वहां के सीसी कैमरे के फुटेज खंगाले तो संदेही रामप्रकाश पुनिया के बयानों में गलत तथ्य सामने आए जिसके बाद पुलिस का शक रामप्रकाश पर गहराता चला गया। और वह क्राइम ब्रांच के चंगुल में फंस गया। पूछताछ में रामप्रकाश ने बताया कि उसने टोनी के साथ मिलकर अनुपम की हत्या की है। पुलिस ने वारदात में प्रयुक्त रस्सी जप्त की है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button