इंदौरमध्य प्रदेश

मंत्री देवड़ा कोविड पॉजिटिव होने के बावजूद अपने प्रभार के जिलों से सतत सम्पर्क में

मंदसौर
वित्त, वाणिज्यिक कर, योजना एवं आर्थिक सांख्यिकी मंत्री एवं मंदसौर/रतलाम जिले के कोविड प्रभारी मंत्री जगदीश देवड़ा कोरोना पॉजिटिव होने के बावजूद अपने प्रभार के जिलों के अधिकारियों एवं डॉक्टरों से लगातार सम्पर्क में है। उन्होंने प्रभार के जिलों मेंचिकित्सा सुविधाओं एवं संसाधनों के साथ ही मरीजों के उपचार एवं भोजन की व्यवस्था पर ध्यान देने की बात कहीं है। रतलाम मेडिकल कॉलेज के डीन से दूरभाष पर चर्चा के दौरान ऑक्सीजन एवं अन्य दवाईयों की उपलब्‍धता की जानकारी भी प्राप्त की।

देवड़ा ने विधायक यशपाल सिंह सिसोदिया से दूरभाष पर चर्चा कर कोविड व्यवस्थाओं से जुड़ी जानकारियाँ प्राप्त की है। उन्होंने कहा कि जिला चिकित्सालय जीएनएमटीसी सेंटर तथा आयुष्मान योजना अंतर्गत चल रहे निजी कोविड-19 सेंटर में किसी भी प्रकार की कमी न हो तथा स्वास्थ्य प्रशासन एवं जिला प्रशासन स्तर पर हर संभव प्रयास किए जाएँ।

विधायक सिसौदिया ने मंत्री देवड़ा को अवगत करवाया कि मंदसौर जिला चिकित्सालय के प्रसूति तथा आकस्मिक दुर्घटना वार्ड को छोड़कर पूरा अस्पताल कोविड वार्ड में तब्दील कर दिया गया है। लगभग 100 पलंगों का एक अतिरिक्त निजी चिकित्सालय, जिसमे तीन चिकित्सालय की साझेदारी सुनिश्चित होगी, जो आयुष्मान कार्डधारी मरीजों को भी देखेंगे। अंबा पैलेस/यशराज पैलेस/ गणेश वाटिका क्षेत्र को कोविड वार्ड बनाए जाने की तैयारी प्रारंभ कर दी गई है।

विधायक सिसोदिया ने यह भी बताया गया कि जिला चिकित्सालय मंदसौर में RT-PCR कोविड-19 की जांच सुनिश्चित हो सके] इसलिए 25 लाख रुपए की राशि जिला कलेक्टर को विधायक निधि से दिए जाने की अनुशंसा कर दी गई है। उद्योगपति प्रदीप गनेडीवाल द्वारा 15 लाख रुपए की राशि रेडक्रॉस सोसाइटी को सुपुर्द कर दी गई है। देवड़ा ने बताया कि प्रभार जिले में कोविड संक्रमण की स्थिति से निपटने के लिये अन्य उद्योगपतियों से सम्पर्क कर उनसे सहयोग की अपील करेंगे।

मंत्री देवड़ा ने प्रभार जिलों के डॉक्टरों से भी चर्चा कर उनका मनोबल बढ़ाया और कहा कि कोविड सेंटरों में किसी प्रकार की दवाईयाँ एवं ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं आने दी जाएगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button