खेल

पंजाब किंग्स टीम की जीत में काम नहीं आया केएल राहुल अर्धशतक

नई दिल्ली. पंजाब किंग्स के कप्तान लोकेश राहुल ने इंडियन प्रीमियर लीग के बड़े स्कोर वाले मैच में रविवार को दिल्ली कैपिटल्स के खिलाफ छह विकेट की हार के बाद कहा कि उन्हें बल्लेबाजी करते हुए लगा था कि 196 रन अच्छा लक्ष्य रहेगा, लेकिन शायद उनकी टीम ने 10 से 15 रन कम बनाए. उन्होंने कहा कि अगर हम जीतते तो यह जीत मेरे जन्मदिन की मिठाई की तरह होती. हार से मैं काफी निराश हूं. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि हालांकि, अभी बहुत से मैच बचे हुए हैं. मयंक अग्रवाल (36 गेंद, 69 रन, सात चौके, चार छक्के) और राहुल (51 गेंद, 61 रन, सात चौके, दो छक्के) के अर्धशतक और दोनों के बीच पहले विकेट की 122 रन की साझेदारी से पंजाब किंग्स ने चार विकेट पर 195 रन बनाए.

दिल्ली की टीम ने इसके जवाब में सलामी बल्लेबाज शिखर धवन (92) के तूफानी अर्धशतक से 18.2 ओवर में चार विकेट पर 198 रन बनाकर आसान जीत दर्ज की. मार्कस स्टोइनिस (13 गेंद में नाबाद 27, तीन चौके, एक छक्का) और सलामी बल्लेबाज पृथ्वी शॉ (32) ने भी उम्दा पारियां खेली. धवन ने 49 गेंद का सामना करते हुए 13 चौके और दो छक्के मारे. राहुल ने मैच के बाद कहा, ''बल्लेबाजी करते हुए लग रहा था कि 196 अच्छा लक्ष्य है. अंत में अगर आप इसे देखो तो लग रहा है कि हमने 10 से 15 रन कम बनाए. मयंक और मैं पहले हाफ में सोच रहे थे कि अगर हम 180-190 रन बना लेंगे तो यह अच्छा स्कोर रहेगा. लेकिन बेशक वानखेड़े स्टेडियम में ओस होती है और धवन को श्रेय जाता है.''

उन्होंने कहा, ''ओस से चीजें मुश्किल हुईं, वानखेड़े में बाद में गेंदबाजी करना हमेशा चुनौती होती है. हम हमेशा इस तरह के हालात के लिए तैयार रहने का प्रयास करते हैं, लेकिन हालात के अनुसार चीजें मुश्किल हो जाती हैं.'' क्या हर दो ओवर में गेंद बदल देना चाहिए? इस सवाल के जवाब में राहुल ने कहा, ''मुझे लगता है कि ऐसा करना सही होगा. मैं ऐसा इसलिए नहीं कह रहा हूं, क्योंकि मैं हारने वाले पक्ष में हूं. मैंने अंपायर से कई बार गेंद बदलने के लिए कहा लेकिन ऐसा करना नियमों में नहीं है.''

दिल्ली के कप्तान ऋषभ पंत ने कहा कि वो शुरू में ही दबाव में आ गए थे, लेकिन उनके गेंदबाजों ने पंजाब को इतने स्कोर पर रोककर अच्छा काम किया. उन्होंने कहा, ‘‘मैंने कप्तानी का लुत्फ उठाना शुरू कर दिया है लेकिन शुरू में हम दबाव में थे क्योंकि विकेट से मदद नहीं मिली रही थी और उन्होंने अच्छी शुरुआत की. उन्हें 190 रन (195 रन) पर रोककर हमारे गेंदबाजों ने अच्छा काम किया. आप शिखर से काफी चीजों पर बात कर सकते हो, लेकिन टीम को उसने जो दिया है वह काबिलेतारीफ है.’’

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button