बिहारराज्य

ढाई लाख लोगों को रोजगार देगा NHAI, अभी काम कर रहे हैं 6000 मजदूर

पटना
राज्य में मुख्य सड़कों के निर्माण की इस समय चल रही करीब 400 परियोजनाओं में करीब छह हजार श्रमिक काम कर रहे हैं. इसके अलावा भी बाहर से आने वाले श्रमिकों को रोजगार दिलाने के लिए पथ निर्माण विभाग तैयारी कर रहा है.

वहीं, केवल एनएचएआइ राज्य में अपनी करीब 1100 किलोमीटर की लंबाई में सड़क निर्माण परियोजनाओं पर काम शुरू होने के बाद करीब ढाई लाख लोगों को रोजगार देने का दावा कर रहा है.

सूत्रों का कहना है कि कोरोना संकट के कारण अन्य राज्यों से बिहार लौटने वाले श्रमिकों को रोजगार देने की सरकार तैयारी कर रही है. इसी के तहत पथ निर्माण विभाग भी तैयारी में जुटा है.

फिलहाल पथ निर्माण विभाग की 400 मुख्य सड़कों पर निर्माण कार्य हो रहा है. इसमें करीब छह हजार श्रमिकों को काम मिला हुआ है.

इसके अलावा भी पथ निर्माण विभाग अन्य परियोजनाओं पर काम शुरू करने की तैयारी कर रहा है जिसके लिए कुशल और अकुशल श्रमिकों की आवश्यकता होगी. इन परियोजनाओं में बिहार लौटने वाले श्रमिकों के रोजगार मांगने पर उन्हें काम देने की व्यवस्था की जायेगी.

एनएचएआइ के क्षेत्रीय पदाधिकारी लेफ्टिनेंट कर्नल चंदन वत्स ने कहा कि राज्य में इस साल करीब 1100 किलोमीटर की लंबाई में सड़क परियोजनाओं का निर्माण कार्य शुरू होगा.

करीब 80 किलोमीटर लंबाई में सड़क बनाने में करीब 2000 कुशल और अकुशल श्रमिकों की जरूरत होती है. ऐसे में 11100 किलोमीटर सड़क निर्माण के लिए सीधे तौर पर करीब 30 हजार कुशल और अकुशल श्रमिकों की जरूरत होगी.

इसके साथ ही सड़क निर्माण कार्य से जुड़े अप्रत्यक्ष तौर पर करीब सवा दो लाख लोगों को रोजगार मिल सकेगा. इस तरह एनएचएआइ की 1100 किलोमीटर सड़क की लंबाई में निर्माण शुरू होने पर करीब ढाई लाख लोगों को रोजगार मिल सकेगा.

पथ निर्माण विभाग के अपर मुख्य सचिव अमृत लाल मीणा ने कहा कि बाहर से लौटने वाले श्रमिकों को भी रोजगार देने की तैयारी हो रही है. इस योजना पर विभाग काम कर रहा है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button