कटनीजबलपुरमध्य प्रदेश

गंभीर अपराधों में केस डायरी एवं साक्षियों के साथ न्यायालय में उपस्थित रहें विवेचक 

कटनी, यशभारत। संचालनालय लोक अभियोजन भोपाल के तत्वावधान में जिला अभियोजन की कार्यशाला कलेक्ट्रेट के नवीन सभागार में आयोजित की गई, जिसमे आगामी 1 जुलाई से लागू होने जा रही नवीन वृहद संहिताओं पर जिले के अभियोजकों व विवेचकों द्वारा प्रशिक्षण प्राप्त किया गया। कार्यशाला का शुभारंभ प्रधान न्यायाधीश कुटुम्ब न्यायालय दीपक गुप्ता, जिला दण्डाधिकारी अवि प्रसाद, पुलिस अधीक्षक अभिजीत रंजन द्वारा किया गया।

 

अध्यक्षी आसंदी से प्रधान कुटुम्ब न्यायाधीश दीपक गुप्ता ने साक्षियों के पक्षद्रोही होने की प्रवृत्ति पर चिंता व्यक्त करते हुये गंभीर अपराधों में विवेचक को प्रकरण की केस डायरी एवं साक्षियों के साथ उपस्थित रहने का सुझाव दिया एवं अपने अनुभव को साझा करते हुये प्रभावी अभियोजन के लिये प्रभावी उपयोगी टिप्स प्रदान किये। जिला दंडाधिकारी अवि प्रसाद द्वारा विधि के सिद्धांतो का सरल शब्दों में व्याख्या करते हुये लोक अभियोजक को राज्य का प्रतिनिधि निरूपित करते हुये न्यायदान में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका के संबंध में प्रकाश डाला गया।

 

नवीन कानूनों को प्रभावी ढंग से लागू करने हेतु प्रशिक्षण की उपयोगिता व्यक्त की। पुलिस अधीक्षक अभिजीत रंजन द्वारा अपने उद्बोधन में भारतीय न्याय संहिता में नवीन जोड़े गये प्रावधानों यथा आतंकवाद, मॉब लिंचिंग, पुलिस के निर्देश के पालन किये जाने की बाध्यता के संबंध में प्रतिभागियों का ध्यान आकृष्ट किया गया और व्यक्त किया कि इन नवीन प्रावधानों के जोडे जाने से भारतीय न्याय संहिता पूर्ण हुई है और पुलिस और अभियोजन इस संहिता के माध्यम से पीडित को न्याय प्रदान कराने में सशक्त हो सकेंगे। माननीय षष्टम जिला एवं सत्र न्यायाधीश डी के सिंह द्वारा अपने द्वारा विचारित प्रकरणों के हवाले से उपयोगी मार्गदर्शन प्रदान किया गया।

माननीय सप्तम अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश श्रीमती सिद्धि मिश्रा द्वारा बीएनएनएस 2023, जिला अभियोजन अधिकारी नरसिंहपुर रामकुमार पटेल द्वारा भारतीय साक्ष्य अधिनियम 2023 आट्र्स एंड कॉमर्स कॉलेज की प्राध्यापक विधि श्रीमती रितिका साहनी आहूजा द्वारा भारतीय न्याय संहिता 2023, मंगलायतन यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर डॉ प्रदीप तिवारी द्वारा सायबर क्राइम का पीपीटी के माध्यम से ज्ञानवर्धक प्रशिक्षण दिया गया। कार्यशाला की रूपरेखा प्रस्तुत करते हुये जिला अभियोजन अधिकारी हनुमंत किशोर शर्मा ने अतिथियों का स्वागत किया एवं पीपीटी के माध्यम से नवीन संहिताओं का तुलनात्मक अध्ययन प्रस्तुत किया गया।

कार्यशाला का समापन एवं प्रमाण पत्र वितरण विशेष न्यायाधीश एनडीपीएस एक्ट आशुतोष मिश्रा, एडीएम श्रीमती साधना परस्ते एवं संयुक्त कलेक्टर श्रीमती संस्कृति शर्मा द्वारा किया गया। प्रशिक्षण में अभियोजन कार्यालय के समस्त अधिकारी एवं कर्मचारी सहित लोक अभियोजक रजनीश सोनी एवं अन्य शासकीय अभिभाषक तथा पुलिस, आबकारी, फॉरेस्ट के वरिष्ठ विवेचना अधिकारी प्रतिभागी के रूप में उपस्थित रहे। कार्यशाला का संचालन सहायक जिला अभियोजन अधिकारी धर्मेन्द्र तिवारी द्वारा किया गया।

Rate this post

Yash Bharat

Editor With मीडिया के क्षेत्र में करीब 5 साल का अनुभव प्राप्त है। Yash Bharat न्यूज पेपर से करियर की शुरुआत की, जहां 1 साल कंटेंट राइटिंग और पेज डिजाइनिंग पर काम किया। यहां बिजनेस, ऑटो, नेशनल और इंटरटेनमेंट की खबरों पर काम कर रहे हैं।

Related Articles

Back to top button