भोपालमध्य प्रदेशराज्य

कोरोना से 32 साल के सिपाही की मौत: 2 महीने से इलाज चल रहा था; रिपोर्ट निगेटिव आ चुकी थी

तीन साल पहले शादी हुई थी, दो साल पहले एक बेटे का बना था पिता

भोपाल  यश भारत। भोपाल में कोरोना संक्रमित एक और पुलिसकर्मी की मौत हो गई। बिलखिरिया थाने में पदस्थ सीपाही  की इलाज के दौरान सोमवार रात मौत हो गई। कुछ दिनों से उनका इलाज बंसल अस्पताल में चल रहा था। वे तीन दिन से 100% ऑक्सीजन सपोर्ट पर थे। करीब दो महीने पहले ड्यूटी के दौरान ही पीड़ित हो गए थे। हालांकि कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आ चुकी थी। तीन साल पहले विवाह बंधन में बंधे सुरेश दो साल पहले ही एक बेटे के पिता बने थे।

अब तक भोपाल में 5 से ज्यादा पुलिसकर्मियों की कोरोना वायरस से मौत हो चुकी है, जबकि अधिकारी और पुलिसकर्मी मिलाकर 350 से अधिक लोग संक्रमित हो चुके हैं। इसे देखते हुए भोपाल में पुलिसकर्मियों के लिए अलग से कोविड केयर सेंटर दो दिन पहले ही सातवीं वटालियन के अस्पताल में शुरू किया गया है। डीआईजी इरशाद वली ने मंगलवार सुबह अस्पताल पहुंचकर सुरेश को अंतिम विदाई दी। पुलिस मुख्यालय से उनके इलाज के लिए करीब 12 लाख की राशि स्वीकृत की जा चुकी थी।

पिता एमपी नगर में पदस्थ

 एमपी नगर में हलवदार हैं। टीआई बिलखिरिया उमेश सिंह चौहान ने बताया कि 1 मार्च को आमद दी थी। 14 मार्च को ड्यूटी के दौरान वह चक्कर खाकर गिर पड़े थे। साथी पुलिसकर्मी उन्हें निजी अस्पताल ले गए, जहां कुछ दिनों तक इलाज चलने के बाद अस्पताल प्रबंधन ने सुरेश को कोविड संक्रमित बताते हुए बंसल अस्पताल ले जाने की सलाह दी थी।

परिजन उन्हें बंसल अस्पताल ले गए। इलाज बाद कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आने पर उन्हें अस्पताल से छुट्‌टी कर 14 दिन की दवा दी गई। हालांकि घर पर हालत बिगड़ने पर उन्होंने दोबारा पास के निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां से 30 अप्रैल को उन्हें दोबारा बंसल अस्पताल लगाया गया। यहां वे तीन दिन से 100% ऑक्सीजन सपोर्ट पर थे।

भोपाल में 4 से ज्यादा पुलिसकर्मी जान गंवा चुके

भोपाल में लॉकडाउन और कोरोनावायरस बीच लगातार ड्यूटी कर रहे पुलिसकर्मी के संक्रमित होने का सिलसिला लगातार जारी है। अब तक 350 से अधिक पुलिसकर्मियों और अधिकारियों को कोरोना संक्रमण हो चुका है। अब तक भोपाल में ही 5 से ज्यादा पुलिसकर्मी और अधिकारी जान गंवा चुके हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button