जबलपुरमध्य प्रदेश

एनएचएम संविदा कर्मचारियों ने शुरू की अनिश्चितकालीन हड़ताल

जबलपुर। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन में कार्यरत् संविदा कर्मचारी जिला जबलपुर द्वारा लगातार पिछले वर्ष से कोरोना महामारी में आधे वेतन पर अपनी जान हथेली पर रखकर विपरीत परिस्थितियों में 24 घंटे लगातार आर.आर.टी. / एम.एम.यू.आई . कोविड केयर सेंटर मे आई.सी.यू. में सेवाएं दे रहे है प्रति दिवस सैकडो संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी ( एन.एच.एम. ) ड्यूटी करते हुए लगातार संक्रमित हो रहे है और लगातार कई संविदा स्वास्थ्य कर्मचारियों ( एन.एच.एम. ) का निधन हो गया है और हो रहा है । कुछ कर्मचारियों के पॉजिटिव होने के कारण उनके पिता की उनके भाई की और स्वयं की भी मृत्यु हो गई अब उनके केवल बच्चे बचे हुए है इन सभी परिवार के प्रति हम सब और सरकार की जिम्मेदारी बनती है जिससे जिले के समस्त संविदा स्वास्थ्य कर्मचारियों ( एन.एच.एम. ) में आक्रोश है और दुखी है । मुख्यमंत्री जी आपके द्वारा ही 5 जून 2018 को संविदा कर्मचारियों के लिए नीति बनाई गई जो कैबिनेट में पारित की गई और सामान्य प्रशासन विभाग के निर्देशानुसार सभी संविदा कर्मचारियों को नियमित कर्मचारियों का न्यूनतम 90 प्रतिशत वेतनमान देने के आदेश प्रसारित हुए जिसके अनुसार महिला बाल विकास विभाग , राजस्व विभाग , खेल युवा कल्याण विभाग , पशुपालन विभाग , लोक स्वास्थ्य कल्याण विभाग , लोकसेवा प्रबंधन एवं पुलिस कॉरपोरेशन विभाग सभी को म 0 प्र 0 शासन सामान्य प्रशासन विभाग के परिपत्र दिनांक 05 जून 2018 के कण्डिका 1.14.5 अनुसार 90 प्रतिशत वेतन का लाभ दिया गया है , लेकिन राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के कर्मचारियों की फाइल आज दिनांक तक 3 वर्ष में भी वित्त विभाग से स्वीकृत नहीं की गई आज भी वित्त विभाग में लम्बित में हैं । प्रांतीय कार्यकारिणी की शासन स्तर से वार्तालाप के बाद भी साकारत्मक परिणाम न प्राप्त होने के कारण प्रांतीय संघ के आव्हान पर दिनांक 24 मई 2021 से जिला जबलपुर के सभी संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी ( एन.एच.एम. ) अनिश्चित कालीन हडताल पर जा रहे हैं जिससे स्वास्थ्य सेवाओं पर विपरीत प्रभाव एवं मरीजों को होने वाली असुविधाओं की पूरी जिम्मेदारी शासन प्रशासन की होगी ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button